डकैतों ने दिन दहाड़े व्यापारियों पर किया हमला, करीब 20 लाख रुपए लेकर हुए फरार

PALI SIROHI ONLINE

राजस्थान के सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ कस्बे में शुक्रवार को दिन दहाड़े व्यापारी से करीब 20 लाख रुपए की डकैती का मामला सामने आया है।

यहां अनाज गोदाम स्थित सांवरमल रतनलाल फर्म से व्यापारी रतनलाल का पोता अंकित दुकानदारी की राशि तीन थैलों में रखकर घर जा रहा था। इसी दौरान चार डकैतों ने सुरेका भवन के पास हमला कर उससे रुपये छीन लिए।

पिता व चाचा बचाने आए तो उन पर भी धावा बोल दिया। घटना में हेलमेट पहने होने पर भी अंकित गंभीर घायल हो गया। जिसे प्राथमिक उपचार के बाद सीकर रेफर किया गया है।

सूचना पर सीकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र शर्मा व पुलिस उप अधीक्षक श्रवण झोरड़ मौके पर पहुंचे। नाकाबंदी कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी गई।

सफेद कार में आए डकैत, फर्म के पास ही बनाया निशाना अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र शर्मा ने बताया कि डकैत एक सफेद रंग की कार में सवार होकर आए थे।

पीडि़तों के अनुसार अंकित रुपये लेकर रवाना हुआ तो सुरेका भवन के पास वे नीम के पेड़ के नीचे खड़े थे। जहां से अंकित के गुजरते ही उन्होंने उस पर हमला कर दिया। उससे रुपयों से भरे तीनों बैग छीन लिए। इसी बीच दुकान से उसके पिता रवि व प्रमोद बचाने आए तो डकैतों ने उन पर भी हमला कर दिया। शोर सुनकर नजदीकी लोग पहुंचते उससे पहले ही डकैत रुपये लेकर फरार हो गए।

घटना में अंकित को गहरी चोट लगने पर नजदीकी लोगों की मदद से उसे अस्पताल पहुंचाया गया। जिसे प्राथमिक उपचार के बाद सीकर रैफर किया गया।

सूचना मिलने पर पुलिस उप अधीक्षक श्रणव कुमार मौके पर पहुंचे। कुछ देर बाद सीकर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र शर्मा भी वहां पहुंच गए। मौका मुआयना कर उन्होंने पीडि़तों से बात की। नाकाबंदी कर आरोपियों की तलाश अब भी जारी है।

हेलमेट टूटा, चाचा पर गाड़ी चढ़ाने का प्रयास डकैतों ने अंकित पर जबरदस्त हमला किया। जिससे उसके हेलमेट के भी टुकड़े हो गए। जब रवि व प्रमोद उसे बचाने आए तो आरोपियों ने उन पर भी हमला किया और प्रमोद पर भी गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की। गनीमत से दोनों को ज्यादा चोट नहीं लगी।

व्यापारियों में आक्रोश घटना के बाद व्यापारियों में आक्रोश फैल गया। उन्होंने घटना का विरोध करते हुए आरोपियों की तुरंत गिरफ्तारी की मांग की। लोगों का आक्रोश देखते हुए पुलिस ने समझाइश कर आरोपियों की जल्द धरपकड़ का आश्वासन दिया।