राजस्थान में तोकते तूफान से पूर्व प्रदेश की राजनीती में भुसाल,विधायक चौधरी का इस्तीफा

PALI SIROHI ONLINE

गुढ़ामलानी से कांग्रेस विधायक हेमाराम चौधरी ने राजस्थान विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया हैं। हेमाराम चौधरी सचिन पायलट गुट के माने जाते हैं। हेमाराम चौधरी ने पहले भी कई बार इस्तीफा देने की बात कही हैं।

हालांकि अभी तक हेमाराम चौधरी ने इस्तीफा देने का स्पष्ट कारण नहीं बताया हैं, लेकिन वो लगातार सरकार के कामकाज को लेकर काफी परेशान था। चौधरी ने विधानसभा में भी कई बार यह बात कही थी, उनकी विधानसभा में कोई काम काज नहीं हो रहा हैं, वहां अधिकारी भी उनकी बात नहीं सुन रहे है।

विधायक ने विधानसभा में कहा था कि गुड़ामालानी की जनता के साथ अन्याय मत करो, अगर मेरे से किसी की दुश्मनी हैं, तो उसकी सजा गुड़ामालानी की जनता को मत दो, मुझे दे दो। शायद सरकार की कार्यप्रणाली को लेकर ही आज हेमाराम चौधरी ने इस्तीफा दिया हैं। हेमाराम चौधरी ने आलाकमान तक भी अपनी बात पहुंचाने की कोशिश की थी, आलाकमान ने पायलट और गहलोत गुट में समन्वय बनाने के लिए एक कमेटी भी बनाई थी, लेकिन महीनों बीत जाने के बाद भी इस कमेटी ने कुछ नही किया।

फ़ाइल फ़ोटो

हेमाराम चौधरी गहलोत की पिछली सरकार में राजस्व मंत्री भी थे, हालांकि इस बार यह पद बाड़मेर की बायतु विधानसभा से विधायक बने हरीश चौधरी के पास है। इस बार भी हेमाराम चौधरी को मंत्री पद मिलने की उम्मीद थी, लेकिन उनको कोई पद नहीं दिया गया, जबकि हेमाराम चौधरी 6 बार विधायक बन चुके हैं। वही कांग्रेस में भी सीनियर नेताओ में हेमाराम चौधरी की गिनती होती हैं।