महामारी अधिनियम की धज्जियां उड़ा रहे शराब ठेकेदार, कार्रवाई से बच रहे जिम्मेदार

PALI SIROHI ONLINE

महामारी अधिनियम की धज्जियां उड़ा रहे शराब ठेकेदार, कार्रवाई से बच रहे जिम्मेदार

सिरोही जिले में कोरोना महामारी में लॉक डाउन के बावजूद शराब ठेकेदार बाज नहीं आ रहे हैं। अलसुबह से एक पारी में दुकानें खुली रखने की छूट के बावजूद नियमों तोड़े जा रहे हैं। चोरी-छिपे शराब बेचने का सिलसिला दिन में तो क्या देर रात तक भी जारी रहता है।

इसके बाद भी आबकारी महकमा मूकदर्शक बना हुआ है। महामारी के दौर में जहां सभी विभाग मुस्तैदी से काम कर रहे हैं, वहीं आबकारी महकमा केवल शराब बिकवाली पर ध्यान दे रहा है।

इस काम में भी महामारी अधिनियम की धज्जियां उड़ रही है। शराब ठेकों पर सरकारी गाइड लाइन की खुली अवहेलना के बावजूद महकमे की जिम्मेदारी तय नहीं हो रही।

दुकानें निर्धारित समय से संचालित होने तक तो ठीक है, लेकिन तय समय के बाद भी शराब बेचने पर अंकुश नहीं लगाया जा रहा तथा जिम्मेदार कार्रवाई से बच रहे हैं।

एक तरह से महकमे ने मानों ठेकेदारों को खुली छूट दे रखी है। इससे महामारी अधिनियम की धज्जियां तो उड़ ही रही है जन स्वास्थ्य के साथ भी खिलवाड़ हो रहा है।

लाइसेंसी दुकानों पर महामारी अधिनियम की अवहेलना के मामलों में आबकारी महकमे की जिम्मेदारी तय होनी चाहिए, ताकि ठेकों पर सरकारी गाइड लाइन की पालना हो सके।

पुलिस ने सीज किया ठेका
आबूरोड में हाईवे के समीप संचालित एक शराब ठेके पर ऐसा ही मामला सामने आया है। निर्धारित समय के बाद भी शराब बेचे जाने पर पुलिस ने इस ठेके पर कार्रवाई की है। जहा शहर में चांदमारी रोड पर संचालित दुकान में शाम को भी शराब बिकवाली हो रही थी। सूचना मिलने पर शहर थाना पुलिस मौके पर पहुंची और महामारी अधिनियम के तहत कार्रवाई की। इस ठेके को तीन दिन के लिए सीज किया गया है।