सुबह की पारी में दुकानें खुली रखने की छूट,के बावजूद,ब्लैक में खुले आम बिक रही है शराब,गरीब दोहरी मार् को मर रहा

PALI SIROHI ONLINE

सिरोही जिला

कोविड के चलते सुबह दूध चाय की जगह पी रहे शराब, बढ़ रहे संगीन अपराध

सुबह की पारी में दुकानें खुली रखने की छूट, फिर ब्लैक में खुले आम बिकती है शराब

सिरोही जिले में कोराना संक्रमण के दौर में अलसुबह से ही शराब की दुकानें खोले जाने की छूट मिली है। इस कारण सराब के शौकीन सुबह दूध चाय की जगह शराब गटक पी रहे हैं। सुबह दस बजे से रात आठ बजे तक खुली रहने वाली शराब की दुकानों को भी कोरोना संक्रमण के दौर में सुबह एक पारी में खोले जाने की अनुमति मिली है।

ऐसे में अधिकतर शौकीन या तो सुबह से ही नशे में झूमने लगते हैं या घर में स्टॉक कर रहे हैं। वीकेंड कफ्र्यू के दौरान हर सप्ताह शनिवार व रविवार को शराब की दुकानें बंद रखे जाने का प्रावधान है। इसके बाद के समय में शराब ब्लैक में बिक रही है। तो राजस्थान में कही शहरी ग्रामीण क्षेत्र व गांवों में भी शराब की अवैध बिक्री तथा कालाबाजारी हो रही है।

सुबह की पारी में दुकानें खुलने की छूट से सरकार को जरूर राजस्व मिल रहा है, लेकिन इससे संगीन अपराध भी बढ़ रहे हैं। हाल ही में सरूपगंज क्षेत्र में ऐसा एक मामला सामने आ चुका है, जिसमें सुबह-सवेरे शराब पीने पर टोकाटोकी की तो पिता ने पुत्र की ही हत्या कर दी। इस तरह के गंभीर अपराध सामाजिक रिश्तों को तार-तार कर रहे हैं।

चुप्पी साधे बैठा आबकारी महकमा
निर्धारित समय के बाद भी शराब की बिकवाली होने के मामले भी सामने आ रहे हैं, लेकिन आबकारी महकमा चुप्पी साधे बैठा है। न तो इस तरह के मामले पकड़े जा रहे हैं और न ही अवैध बिक्री रूक रही है। दुकानें बंद रहने से कालाबाजारी बढ़ रही है और मुंहमांगे दामों पर बेचा जा रहा है।