4500 में बेच रहा था 550 का ऑक्सीफ्लोमीटर,दो गिरफरार

PALI SIROHI ONLINE

सर्जिकल उपकरणों की कालाबाजारी: 4500 में बेच रहा था 550 का ऑक्सीफ्लोमीटर

  • आपदा में अवसर में ढूंढ रहे बिचौलिए, एसओजी ने की कार्रवाई
    जोधपुर. एसओजी व शास्त्रीनगर थाना पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में 550 रुपए लागत वाले ऑक्सीफ्लोमीटर को 4500 रुपए में बेचने का प्रयास कर रहे एक व्यक्ति और सर्जिकल उपकरण बेचने वाले दुकानदार को रविवार को गिरफ्तार किया गया।

एसओजी अधिकारियों के अनुसार कोरोना संक्रमण में दवाइयों के साथ सर्जिकल उपकरणों की कालाबाजारी करने की सूचना पर कार्रवाई की गई। एसओजी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कमलसिंह के निर्देशन में निरीक्षक जब्बरसिंह ने एमडीएम अस्पताल की जनाना विंग में भर्ती कोरोना मरीज का परिजन बनकर संदिग्ध युवक किशोरसिंह से मोबाइल पर बात की। एसओजी ने मरीज को छुट्टी मिलने व घर से ऑक्सीजन सिलेण्डर पर लगने वाले ऑक्सीफ्लोमीटर खरीदने की जरूरत जताई। उस व्यक्ति ने सिर्फ एक पीस होना बताया और बेचने के लिए तैयार हो गया।

मरीज बने एसओजी अधिकारी ने उसे एमडीएम अस्पताल के बाहर बुलाया। किशोरसिंह बाइक पर वहां व ऑक्सीफ्लोमीटर दिखाया। बेचने के लिए उसे 4500 रुपए मांगे। पूछताछ में उसने यह ऑक्सीमीटर शास्त्रीनगर स्थित एंजल हेल्थ केयर से खरीदने की जानकारी दी। इस दौरान शास्त्रीनगर थाना पुलिस भी वहां पहुची। इसके बाद टीम ने एंजल हेल्थ केयर पर छापा मार कर संचालक निखिल उर्फ झंकार जैन को पकड़ लिया। पूछताछ के बाद मूल रूप से पाली जिले में फूलाद हाल इसाइयों का कब्रिस्तान क्षेत्र स्थित कमला नेहरू कॉलोनी निवासी किशोरसिंह पुत्र मूलसिंह रावत व पाल रोड पर कुलदीप विहार निवासी निखिल उर्फ झंकार पुत्र विनोदकुमार जैन को ऑक्सीफ्लोमीटर की कालाबाजारी के आरोप में गिरफ्तार किया गया। ऑक्सीफ्लोमीटर व ह्यूमीडीफायर व ऑक्सीजन मास्क बरामद किया गया।

एमआरपी का झोल
पूछताछ में सामने आया कि ऑक्सीफ्लोमीटर की लागत 550 रुपए है। इस पर एमआरपी 2250 रुपए है।

सर्जिकल आइटम की रिपेयरिंग करने वाले किशोरसिंह ने इसे निखिल से तीन हजार रुपए में खरीदा था। उसने कोरोना मरीज के लिए 4500 रुपए में बेचने का सौदा किया। दुकान संचालक से पूछताछ में सामने आया कि उसने ऑक्सीफ्लोमीटर 750 से 1500 रुपए तक में बेचे हैं। उसका तर्क है कि यह राशि एमआरपी से कम है।