नाबालिग छात्रा से पीटीआई ने की छेड़छाड़:प्रिंसिपल पर भी लगाया धमकाने का आरोप, PTI को किया सस्पेंड

PALI SIROHI ONLINE

हनुमानगढ़ जिले में सरकारी स्कूल के पीटीआई के एक नाबलिग छात्रा से छेड़छाड़ करने का मामला सामने आया है। पीड़िता की मां ने शनिवार को महिला थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। घटना का पता चलने पर पीटीआई को सस्पेंड किया गया था।

पुलिस ने बताया कि टाउन निवासी एक महिला ने मामला दर्ज करवाया है। उसकी 15 साल की बेटी सरकारी स्कूल में 10 वीं क्लास में पढ़ती है। रिपोर्ट में बताया कि 4 जनवरी को स्कूल में उसकी बेटी से पीटीआई मैनपाल ने छेड़छाड़ की। जानकारी मिलने पर परिजन और ग्रामीण स्कूल पहुंचे तो बेटी रोते हुए मिली। बेटी ने बताया कि पीटीआई मैनपाल ने गलत नीयत से उसका हाथ पकड़ा। मौके पर प्रिंसिपल व पीटीआई ने ग्रामीणों के सामने गलती मानी और माफी मांगते हुए भविष्य में ऐसा नहीं होने की बात कही। मौके पर शिक्षा विभाग और पुलिस अधिकारी भी आ गए।

विभागीय अधिकारियों ने पीटीआई को एपीओ कर दिया। आरोप है कि अधिकारियों के जाने के बाद प्रिंसिपल गिरधारी लाल मेघवाल ने उसे धमकी दी कि अगर मुकदमा दर्ज करवाया तो तेरी बेटी का भविष्य खराब कर देंगे। उसको खेलने के लिए बाहर नहीं भेजेंगे। ऐसा हाल कर दूंगा कि लड़की कहीं भी नौकरी नहीं लगेगी। इससे वह घबरा गई और कोई कार्रवाई नहीं करवाई। लेकिन, दो-तीन दिन पहले प्रिंसिपल ने स्कूल में उसकी बेटी को धमकाया और पीटीआई के पक्ष में बयान देने को कहा। यह बात उसकी बेटी ने घर आकर उसे बताई। महिला पुलिस ने पीटीआई व प्रधानाचार्य के खिलाफ छेड़छाड़, एससीएसटी व पोक्सो एक्ट की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। मामले की जांच एससीएसटी सेल सीओ प्रहलाद राय कर रहे हैं।

इस घटना के अगले ही दिन प्रिंसिपल गिरधारी लाल ने स्कूल में घुसकर स्टाफ के साथ धक्का-मुक्की कर राजकार्य में बाधा पहुंचाने का आरोप लगाते हुए करीब एक दर्जन ग्रामीणों के खिलाफ नामजद व 6-7 अन्य लोगों के खिलाफ टाउन पुलिस थाना में मुकदमा दर्ज करवा दिया।

जोरावरपुरा स्कूल के मामले को लेकर एक कमेटी गठित की गई थी। जिसमें दो महिला सहित तीन प्रिंसिपल शामिल थे। कमेटी ने अपनी रिपोर्ट सीलबंद लिफाफे में दी है। यह रिपोर्ट निदेशालय को भिजवाएंगे। पीटीआई को सस्पेंड कर दिया गया है।
हंसराज जाजेवाल, डीईओ (माध्यमिक)।