प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संवाद कार्यक्रम के तहत पाली जिला कलेक्टर ने भी प्रधानमंत्री की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में भाग लिया

PALI SIROHI ONLINE

पाली, 20 मई। कोरोना की रोकथाम और इलाज में प्रबंधन को लेकर जिला कलेक्टरों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संवाद कार्यक्रम के तहत गुरुवार को पाली जिला कलेक्टर अंश दीप ने प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में कोरोना महामारी तथा चक्रवाती तूफान के दौरान जिले में किए गए एहतियाती सुरक्षा प्रबंधों की जानकारी साझा की।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चरणबद्ध रूप से जिला कलेक्टरों से कोरोना के प्रबंधन को लेकर संवाद कर रहे हैं। इसी कड़ी में गुरुवार को देशभर के 60 से अधिक जिला कलेक्टरों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हुई। इनमें राज्य के पांच जिले प्रधानमंत्री के संवाद कार्यक्रम से जुड़े रहे। राजस्थान से पाली जिला कलक्टर अंश दीप समेत पांच जिला कलेक्टर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से प्रधानमंत्री के संवाद कार्यक्रम से जुड़े। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार बढ़ रहे मरीजों को कम करने के लिए माइक्रो लेवल पर रणनीति बनाने की जरूरत प्रतिपादित की। उन्होंने कहा कि गांवों में महिलाओं और बच्चों को संक्रमणमुक्त रखने के लिए पिछले अनुभवों से सीख लें। उन्होंने कहा कि जिला कलक्टरों ने अपने-अपने जिलों में संक्रमणमुक्ति के लिए कई नवाचार किए हैं। ये नवाचार सराहनायोग्य है। जिला कलक्टरों ने मानव मन को समझने के साथ अनुभव के दम पर संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित कर भावी पीढ़ियों को बचाने में अपना अमूल्य योगदान दिया है।

प्रधानमत्री ने राजस्थान के जिलों में कोरोनाकाल में हुए कार्यो की सराहना करते हुए सामान्य जन का विश्वास बहाल करने के लिए गांवों तक समझाईश सुनिश्चित कर महामारी के फैलाव को रोकने में सफलता प्राप्त करने का आह्वान किया है। उन्होंने कहा कि आप स्वस्थ रहे, जिले का हर नागरिक स्वस्थ रहे यही शुभकामनाएं है।

गौरतलब है कि पाली जिले में कोरोना के प्रबंधन और ऑक्सीजन की उपयोगिता को देखते हुए जिला कलक्टर अंश दीप ने अपने कुशल प्रबंधन से संकट के इस दौर में सफलता प्राप्त की है। पूरे कोरोनाकाल में पाली जिले के किसी भी चिकित्सा संस्थान में आॅक्सीजन समेत आवश्यक दवाओं की उपलब्धता सुनिश्चित की गई है। साथ ही, बेहतर प्रबंधन से चक्रवाती तूफाने ताउ ते से पाली जिले में संभावित नुकसान को बचाया। जिला कलक्टर ने नवाचार करते हुए कोरोना की दूसरी लहर के शुरुआत में ही ग्रामीण इलाकों में 5 कोविड सेंटर बनाकर ऑक्सीजन बेड लगवाए।

इससे लोगों को जिला मुख्यालय नहीं आना पड़ा। जिला मुख्यालय के अस्पतालों पर मरीजों का दवाब कम हुआ। जिले में ऑक्सीजन मैनेजमेंट रखा। गांवों में डोर-टू-डोर सर्वे करवाया। कोविड मैनेजमेंट से कोरोना केस कम किए।

प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान जिला कलक्टर अंश दीप के साथ अतिरिक्त जिला कलक्टर चंद्रभान सिंह भाटी, नगर विकास न्यास के सचिव वीरेन्द्र सिंह चैधरी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. आरपी मिर्धा, पीएमओ आरपी अरोड़ा, जिला क्षय रोग व नोडल अधिकारी विकास मारवाल समेत कई अधिकारी मौजूद रहे।