लड़की को छेड़छाड़ से रोका तो चाचा भतीजे ने चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की हत्या की

PALI SIROHI ONLINE

पाली जिले के मारवाड़ जंक्शन पुलिस थाना क्षेत्र के पाचेटिया गांव में 2 दिन पूर्व मिली चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी की लाश के मामले को लेकर पाली जिला पुलिस अधीक्षक कालूराम रावत के निर्देशन में मात्र 24 घंटों में हत्या का राजफाश किया ।

पाली पुलिस अधीक्षक कालूराम रावत ने बताया कि 18 तारीख को पुलिस थाना मारवाड़ जंक्शन पुलिस को सूचना मिली कि सरहद ग्राम पांचेटिया के जंगल में राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय पांचटिया में कार्यरत चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी नाराराम पुत्र गंगाराम मेघवाल उम्र 54 साल निवासी लाम्बिया पुलिस थाना सदर पाली हाल भिमालिया पुलिस थाना मारवाड़ जंक्शन का शव मिला था।

जॉच गठित टीम द्वारा लगातार मेहनत कर मृतक के रिश्तेदारी एवं आपसी संबंधों के विभिन्न पहलुओं को ध्यान में रखकर सी.सी. टीवी एंव साईबर तकनीक तथा आसूचना संकलन कर राकेश हरिजन निवासी भिमालिया को दस्तयाब कर गहनता से पूछताछ की तो मृतक नाराराम की हत्या उसके भतीज रविन्द्र हरिजन द्वारा नाराराम के समाज रिस्तेदारी की बच्ची से वार्ता करने से टोकने को लेकर रविन्द्र हरिजन व उसके चाचा राकेश हरिजन ने मिलकर नाराराम की हत्या करना स्वीकार किया गया। जिस पर मुलजिमान रविन्द्र व राकेश को गिरफ्तार कर अनुसंधान जारी है।

रविन्द्र कुमार व राकेश दोनों आपस में चाचा-भतीज है तथा दोनों के आपस में गहरी दोस्ती है। गांद भीवालिया में रविन्द्र हरिजन मेघवाल समाज की लड़की से वार्ता कर रहा था, उस समय नाराराम ने रविन्द्र व लड़की को आपस में वार्ता करते हुए देख लिया था। उसके बाद में नाराराम ने मेघवाल समाज की लड़की को चाल चलन को लेकर टोकाटाकी की थी। उसके बाद में उक्त घटना की जानकारी रविन्द्र को होने पर रविन्द्र ने सारी बात अपने चाचा को बतायी तथा रविन्द्र व राकेश ने मिलकर नाराराम को रास्ते से हटाने के लिये नाराराम की हत्या करने की योजना बनायी रविन्द्र व राकेश ने नाराराम को विश्वास में लेकर शराब की पार्टी करने का बहाना बनाकर 17 मई को दिन पोंचेटियां से भीमालियां जाने वाली रोड़ के पास में अंग्रेजी की झाडियों लेकर गये, तथा राकेश व नाराराम दोनों बातचीत कर रहे थे, उसी दौरान रविन्द्र ने आकर नाराराम के पेट पर लात मारी, जिससे नाराराम नीचे गिर गया तथा राकेश ने नाराराम के दोनों पैर पकड़ लिये तथा रविन्द्र ने नाराराम की गला रेतकर निर्मम हत्या कर दी।

पुलिस को गुमराह करने के लिये मृतक नाराराम के मोबाईल फोन को अपने साथ में ले गये तथा मृतक नाराराम के मोबाईल को अपने साथ में ले गये, मगर पुलिस टीम द्वारा कड़ी से कड़ी जोडकर अलग-अलग स्थानों से दस्तयाब कर प्रकरण में गिरफ्तार कर घटनाकम का खुलासा किया गया। गिरफ्तार आरोपीय से घटना में प्रयुक्त छुरा तथा मृतक नाराराम के मोबाईल के संबंध में पूछताछ जारी है। मुलजिमान का आपराधिक रेकर्ड गिरफ्तारशुदा मुख्य आरोपी रविन्द्र कुमार के खिलाफ मारपीट व जानलेवा हमले का प्रकरण पूर्व में दर्ज है।