कोरोना के भय से अपनों ने मोड़ा मुह स्थानीय प्रसासन अंतिम सस्कार को आया आगे

PALI SIROHI ONLINE

कोरोना के भय से अपनों ने मोड़ा मुह स्थानीय प्रसासन अंतिम सस्कार को आया आगे।

बाली। बाली उपखण्ड के खीमेल में प्रकाश चंद्र पुत्र हिम्मतमल दर्जी की 4-5 दिन से तबीयत खराब होने से आज सदिग्ध मृत्यु हो गयी । परिवार मे मृतक की पत्नी एवं छोटे बच्चे है। कोरोना के डर से रिश्तेदारो एवं आम लोगों ने मृतक परिवार से दुरी बनाये रखी। तो स्थानीय प्रसासन मानवीय सरोकार को आगे आया।

स्थानीय सरपंच रमेश कुमार और ग्राम विकास अधिकारी नन्द किशोर ने इस वाक़ये की सुचना बाली ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ हितेंद्र वागोरिया और कार्यवाहक विकास अधिकारी कुम्भ सिंह भाटी ने सहयोग मागने पर समिति से 4 पी पी ई किट और फालना चिकित्सालय से किट ग्लब्स तुरन्त ग्राम पंचायत को उपलब्ध कराए गए।

मानवीय सरोकार को निभाने मे सरपंच रमेश कुमार एवं ग्राम विकास अधिकारी नन्द किशोर वैष्णव और अन्य कोरोना कोर कमेटी के सदस्यों ने पीपीई किट पहनकर अर्थी को टेक्टर की सहायता से सम्मान पूर्वक अंतिम संस्कार के लिए ले गए और अंतिम संस्कार किया। और गली मोहल्ले को सेनेटाइजर करवाया गया।

मौके पर पुलिस प्रशासन,भू निरिक्षक भगाराम चौधरी, पीईओ रामलाल , अध्यापक नारायण लाल वार्ड पंच जितेन्द्र सिंह, चिकित्सा और आंगनवाडी कर्मचारी उपस्थित थे।

3 महिला कर्मचारियों का हौसला आफजाई करना जरुरी

मृतक के निधन की सुचना मृतक की पत्नी ने चिकित्सा विभाग के नर्सिग कर्मी प्रसन्ना कुमारी को दी प्रसन्ना कुमारी ने सरपंच और कोरोना कोर कमेटी को सुचना दी सरपंच की मौजूदगी टीम के साथ तीन महिला कर्मचारी एएनएम प्रसन्ना कुमारी,आशा गीता देवी,कार्यकर्ता ललिता सेन भी कोरोना कोर कमेटी के साथ मोजूद रहकर अपनी ड्यूटी का फ़र्ज निभाते दिखी।

बाली ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ हितेंद्र वागोरिया ने मृतक के शव के अंतिम सस्कार में आगे आने वालो की प्रसंसा करते हुए आमजन से अपील करते हुए कहा हर आकश्मिक मौत कोरोना नही होती। कोरोना पीड़ित के पूर्व से लक्षण दिखाई देते है। और ऐसे भी गाइड लाइन के अनुसार अपन अंतिम सस्कार में भीड़ नही कर सकते तो सभी से निवेदन अगर फिर भी किसी को संका है तो वे पीड़ित परिवार की पी पी
ई किट पहन मदद कर सकते है। या स्थानीय प्रसासन का सहयोग ले और पीड़ित परिवारो का सहयोग करे।