पाली जिला कलेक्टर ने शीतला सप्तमी के मौके पर मंदिरों में पूजा-अर्चना व पांरपरिक गेर नृत्यों के आयोजन पर रोक लगाई

PALI SIROHI ONLINE

पाली जिला मजिस्ट्रेट अंश दीप ने शीतला सप्तमी के मौके पर मंदिरों में पूजा-अर्चना तथा इस मौके पर होने वाले पांरपरिक गेर नृत्यों के आयोजन पर रोक लगा दी है। यह रोक कोरोना संक्रमण के फैलाव के मद्देनजर लगाई गई है। जिला मजिस्ट्रेट ने कहा कि शीघ्रता से पूरी तरह सामान्य स्थिति बहाल होने के मद्देनजर महामारी के प्रसार की श्रंखला को प्रभावी ढंग से तोडऩे की जरुरत है। जिला मजिस्ट्रेट की ओर से जारी आदेशों में कहा गया है कि शीतला सप्तमी पर्व के अवसर पर जिला मुख्यालय एवं जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में शीतला माता के मंदिरों में बड़ी संख्या में महिलाएं एवं श्रद्धालु पूजा-अर्चना तथा पारंपरिक गेर नृत्यों के लिए एकत्र होते हैं। वर्तमान में कोविड 19 के बढ़ते संक्रमण एवं फैलाव के मद्देनजर उक्त आयोजनों में एकत्र होने वाली भीड़ से कोविड 19 के संक्रमण के फैलने की संभावनाओं को बल मिलता है।
जिला मजिस्ट्रेट ने आमजन से शीतला माता की पूजा-अर्चना संबंधी सभी आयोजन अपने-अपने घरों में ही करने की अपील करते हुए मंदिर प्रशासन को 04 अप्रैल तक जिला मुख्यालय व ग्रामीण क्षेत्रों में शीतला माता के मंदिरों में पूजा-अर्चना तथा इस मौके पर आयोजित होने वाली पारंपरिक गेर नृत्यों के आयोजनों पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने के आदेश जारी किए है।

उन्होंने बताया कि उक्त आदेश की सख्ती से पालना करवाई जाएं। आदेश का उल्लंघन दंडनीय होगा। उल्लंघन करने वाले व्यक्ति अथवा व्यक्तियों के खिलाफ भादसं की धारा 188 के प्रावधानों के अंर्तगत विधिक कार्यवाही की जा सकेगी।