ब्लैक फंगस ने दी दस्तक, एक मरीज आया सामने

PALI SIROHI ONLINE

सिरोही जिले के आबूरोड कोरोना वायरस की मार झेल रहे सिरोही जिले में अब ब्लैक फंगस जैसी खतरनाक बीमारी ने भी दस्तक दे दी हैं। जिले के माउंट आबू स्थित ग्लोबल हॉस्पिटल एन्ड रिचर्स सेंटर में ब्लैक फंंगस से संक्रमित एक मरीज समाने आया हैं। ग्लोबल हॉस्पिटल के निदेशक डॉ. प्रताप मिड्ढा ने जानकारी देते हुए बताया कि ब्लैक फंंगस संक्रमित मरीज रेवदर तहसील क्षेत्र का रहने वाला हैं। मरीज के मस्तिष्क और आंखों पर ब्लैक फंगस का अत्यधिक प्रभाव देखा गया हैं। जिसको देखते हुए उसकी जांच रिपोर्ट निकाली गई।

जिसमें ब्लैक फंगस की पुष्टि होने पर उसे अहमदाबाद के न्यूरोसर्जन के पास रैफर किया गया हैं। हालांकि डॉक्टर्स का यह भी कहना हैं कि उक्त मरीज की कोरोना संक्रमण की कोई हिस्ट्री सामने नही आई हैं। डॉक्टर यह भी मान रहे हैं कि कोरोना के माइल्ड इफेक्ट का कई बार मरीज को पता ही नही चलता हैं। ऐसे में इस मरीज के साथ भी कुछ ऐसा ही होने की संभावना जताई जा रही हैं। आपको बता दें ब्लैक फंगस कोरोना संक्रमित मरीजो को ही अपना शिकार बनाता हैं। यह फंगस मरीज की आंखों और मस्तिष्क को डेमेज करता हैं। गौरतलब है कि जिले में ब्लैक फंगस का यह पहला मरीज सामने आया हैं।

भारतीय चिकित्सा विज्ञान परिषद के कहता हैं कि ब्लैक फंंगस एक दुर्लभ तरह का फंगस है। यह फंंगस शरीर में बहुत तेजी से फैलता है। यह इंफेक्शन उन लोगों में देखने को मिल रहा है जो कि कोरोना संक्रमित होने से पहले किसी दूसरी बीमारी से ग्रस्त थे। यह उन्हीं लोगों में देखने को मिल रहा है जिनकी इम्यूनिटी कमजोर है। इस बीमारी का मस्तिष्क, फेफड़े व त्वचा पर भी असर देखने को मिलता है। इसके कारण आंखों की रोशनी भी चली जाती है। वहीं कुछ मरीजों के जबड़े और नाक की हडडी तक गल जाती है। अगर समय रहते इसका उपचार नहीं किया गया तो तो मरीज की मौत हो जाती है।

यह संक्रमण ज्यादातर उन्हीं मरीजों में देखने को मिला है। जो कि पहले से ही डायबिटीज से पीडि़त हैं। ऐसे मरीजों को डायबिटीज पर कंट्रोल रखना चाहिए। विशेषज्ञों के मुताबिक ब्लैक फंगस के कारण सिर दर्द, बुखार, आंखों में दर्द, नाक बंद या साइनस के अलावा देखने की क्षमता पर भी असर पड़ता है।