ब्लैक फंगस के इलाज के लिए निजी अस्पतालों के लिए कुछ प्रोटोकॉल और दरें निर्धारित किये

PALI SIROHI ONLINE

पाली, 21 मई। म्यूको माइकोसिस यानी ब्लैक फंगस को महामारी घोषित करने के बाद सरकार ने इसके इलाज के लिए निजी अस्पतालों के लिए कुछ प्रोटोकॉल और दरें निर्धारित कर दी है। इस बीमारी का इलाज करवाने वाले मरीजों से निजी अस्पतालों में ज्यादा पैसा नहीं लिया जा सके, इसके लिए कोरोना की तर्ज पर इस बीमारी के इलाज के लिए कुछ अस्पतालों को अधिकृत किया गया है। पहले चरण में 20 अस्पतालों को इसके लिए अधिकृत किया गया है। चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोरा ने इस संबंध में दिशानिर्देश जारी किए हैं।


जिला कलक्टर अंश दीप ने बताया कि नई गाइड लाइन के मुताबिक निजी अस्पताल संचालक ब्लैक फंगस से पीडित मरीज से आईसीयू विद वेंटिलेटर बैड्स के 9900 रुपए से ज्यादा चार्ज नहीं वसूल कर सकेंगे। कोरोना की दूसरी लहर की चपेट में आने वाले कई मरीजों में ब्लैक फंगस के केस आने लगे है। इस बीमारी के इलाज के लिए मरीज सरकारी के अलावा निजी अस्पतालों का भी रूख कर रहे है।

निजी अस्पतालों में इस महामारी के नाम पर मरीजों से मनमाने पैसे न वसूले जाएं, इसे देखते हुए सरकार ने इस बीमारी के उपचार की दरें तय की है। इसमें आईसीयू विद वेंटिलेटर बैड्स के अधिकत 9900 रुपए, आईसीयू बैड के 8250 रुपए की दर निर्धारित की गई है। इन बैड्स के अलावा अन्य चार्जेज डॉक्टर का परामर्श शुल्क, नर्सिंग चार्ज, मरीज को देने होंगे। दवाईयां, जांचे सहित तमाम शुल्क अलग से देने होंगे।
उन्होंने बताया कि इस बीमारी में ग्रसित मरीजों में कई के सर्जरी भी करनी पड़ती है। करीब 6 तरह की सर्जरी के लिए भी सरकार ने शुल्क निर्धारित किया है, जो 11 से लेकर 52 हजार रुपए के बीच है। इस महामारी के उपचार के लिए एसएमएस अस्पताल जयपुर, जयपुरिया अस्पताल जयपुर, मेडिकल कॉलेज जोधपुर, एम्स जोधपुर, जेएलएन मेडिकल कॉलेज अजमेर, आरएनटी मेडिकल कॉलेज उदयपुर,

राजकीय मेडिकल कॉलेज बीकानेर, राजकीय मेडिकल कॉलेज कोटा, राजकीय मेडिकल कॉलेज भीलवाड़ा, महात्मा गांधी मेडिकल कॉलेज जयपुर, गीतांजली मेडिकल कॉलेज उदयपुर, जैन ईएनटी अस्पताल जयपुर, नारायणा ह्रदयालय अस्पताल जयपुर, सीएसके अस्पताल जयपुर, सोनी अस्पताल जयपुर, सिद्धम ईएनटी अस्पताल जयपुर, देशबन्धु ईएनटी अस्पताल जयपुर, विजय ईएनटी अजमेर, श्रीराम अस्पताल जोधपुर और वैजयन्ती हॉस्पिटल अलवर को अधिकृत किया गया है।