पाली में नर्सिंगकर्मियों ने दिखाई मानवताः शरीर से आ रही थी बदबू, घावों में थे कीड़े; इलाज कर नहलाया, कपड़े बदले

PALI SIROHI ONLINE

पाली-मेडिकल क्षेत्र से जुड़े लोगों को भगवान का दर्जा क्यों दिया जाता है। इसका उदाहरण पाली के बांगड़ हॉस्पिटल के ट्रोमा वार्ड में लगे स्टॉफ ने अपने काम के जरिए करके दिखाया।

हुआ यूं कि सिरोही जिले के मंडार गांव से रेफर होकर 40 साल का नवीन नाम का युवक आया। जब उसे बांगड़ हॉस्पिटल के ट्रोमा वार्ड लाया गया। उसकी स्थिति ऐसी थी कि पूरे शरी से बदबू आ रही थी। पास खड़े रहने में दिक्कत हो रही थी। ऐसे में परफ्यूम मंगवाकर उसकी बॉडी पर लगाया गया। उसके बाद इलाज शुरू किया। युवक की बॉडी में जगह-जगह घाव हो रखे थे। जिनमें कीड़े पड़े हुए थे और पहने हुए कपड़े भी बहुत पुराने थे। युवक खानाबदोश का जीवन जी रहा था। ऐसी हालत होने के बाद भी ड्यूटी पर लगे ट्रोमा वार्ड के नाइट इंचार्ज जगदीश चौहान ने हेल्पर राजा चौहान की मदद से उसकी बॉडी में बड़े घावों से कीड़े निकाले। गर्म पानी से उसे नहलाया। उसके बाद भलाई की भीत से कपड़े लाकर और पुराने कपड़े खोलकर उसे नए कपड़े पहनाए। तब जाकर उसकी हालत में सुधार हुआ। बाद में उसे दूसरे दिन जोधपुर रेफर किया गया।

ये भी पढ़े

लेटरिंग कर रखा था, उसे भी साफ किया

ट्रोमा वार्ड में लगे हेल्पर राजा चौहान ने बताया कि मरीज की बॉडी से बदबू इतनी आ रही थी कि पास भी खड़ा रहना मुशिकल था। चेक किया तो उसने लेटरिंग कर रखी थी। कपड़े भर हुए थे। ऐसे में भलाई की भीत से दूसरे पकड़े जाए। उसकी लेटरिंग साफ कर नहलाया, डाइपर पहनाया और फिर दूसरे कपड़े पहनाएं।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA