11वीं कक्षा के स्टूडेंट ने किया सुसाइड: मां बोली- स्कूल से 7-8 बच्चे टॉर्चर और पिटाई करते, डर के मारे स्कूल भी नहीं जाता

PALI SIROHI ONLINE

उदयपुर-धानमंडी थाना क्षेत्र में बीती रात 11वीं कक्षा के स्कूली छात्र हर्षवर्धन सिंह राठौड़ ने अपने घर में फांसी का फंदा लगाकर सुसाइड कर लिया। सुसाइड के पीछे का बड़ा कारण स्कूल में अन्य छात्रों द्वारा उसे लगातार टॉर्चर करना और रैगिंग लेना बताया जा रहा है। बुधवार को सरकारी एमबी हॉस्पिटल में मृतक के शव का पोस्टमार्टम हुआ। इस दौरान मृतक के परिजन और क्षेत्रवासियों ने भारी आक्रोश जताया। उन्होंने स्कूली स्टाफ की लापरवाही बताते हुए उनके खिलाफ और मृतक को परेशान करने वाले छात्रों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग उठाई।

मृतक छात्र की मां चंदा राठौड़ ने बताया कि उनके बेटे को स्कूल में अन्य छात्रों द्वारा लगातार टॉर्चर किया जाता था। उसकी रैगिंग ली जाती और मारपीट की जाती थी। मां ने बताया कि मेरा बेटा रोज घर से स्कूल जाता था लेकिन मुझे ये पता नहीं था कि वह डर की वजह स्कूल में नहीं पहुंच रहा था। एक दिन पहले ही मेरे मोबाइल पर टीचर का फोन आया कि तुम्हारा बच्चा स्कूल नहीं आ रहा है। इस पर मैंने बेटे से स्कूल नहीं जाने का कारण पूछा तो वह बहुत सहमते हुए बोला कि स्कूल और हॉस्टल के 7 से 8 छात्र उसे टॉर्चर करते हैं, उसके साथ मारपीट करते हैं। बेटे ये भी बोला था कि उसने इस संबंध में क्लास टीचर को शिकायत की थी कि लेकिन उन्होंने कोई एक्शन नहीं लिया। मां बोली, मैं बेटे को लेकर दूसरे दिन स्कूल जाती लेकिन उससे पहले उसने सुसाइड कर लिया।

ये भी पढे

10 साल से पति से अलग रहती है मां, दो बेटों को खुद ने पाला

मृतक की मां चंदा राठौड़ अपने पति से 10 साल से अलग रहती है। तब से वह अपने दो बेटों को पाल रही है। दोनों बेटे भूपाल नोबल्स में पढ़ते हैं। बड़ा बेटा हर्षवर्धन 11वीं में पढ़ता है और छोटा बेटा 8वीं कक्षा में पढ़ता है। मृतक की मां ने बताया कि बड़े बेटे ने घबराहट और डर से इसलिए भी बात उजागर नहीं की थी। कि परेशान करने वाले लड़के कहीं छोटे भाई को भी टॉर्चर न करने लग जाए।

सभी जगह सीसीटीवी लगे, कोई परेशान नहीं कर सकताः प्रिंसिपल

स्कूल प्रिंसिपल वीरेन्द्र सिंह चुंडावत ने बताया कि हमारे स्कूल में रैगिंग जैसा मामला कभी नहीं हो सकता। हमारे स्कूल में सभी जगह सीसीटीवी लगे हैं अगर स्कूल में उसे कोई परेशान करता हो हमें पता लग जाता। एक माह से वह स्कूल नहीं आ रहा था तो हमने उसकी मां को फोन करवाया। सुसाइड करने वाले बच्चे हर्षवर्धन की यूनिफार्म, बुक्स और अन्य सामग्री मैंने ही फ्री करवाई थी।

मामले की जांच में जुटी पुलिस धानमंडी थानाधिकारी सुबोध जांगिड़ ने बताया कि मृतक बच्चे की माता ने बच्चे के सुसाइड को लेकर मुकदमा दर्ज कराया है जिसमें बीएन स्कूल में उनके बेटे को कुछ छात्रों द्वारा टॉर्चर करने और रैगिंग लिए जाने का आरोप लगाया है। मामले की जांच कर रहे हैं। स्कूल प्रबंधन से पूछताछ करेंगे।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA