सफाईकर्मी की बेटियों की शादी में मामा बनकर आए पुलिसकर्मीः मायरे में थाने के स्टाफ ने मिलकर ढाई लाख से ज्यादा का मायरा भरा

PALI SIROHI ONLINE

जयपुर-जयपुर के सोडाला थाने में तीन पीढ़ियों से सफाई कर रहे कर्मचारी की दो बेटियों की मंगलवार को शादी हुई। इस दौरान थाने के पुलिसकर्मियों ने मिलकर 3 लाख 11 हजार रुपए का मायरा भरा। सफाई कर्मचारी की बेटी की शादी में थाने का पूरा स्टाफ शामिल हुआ। शादी में पुलिसकर्मियों की मौजूदगी और मायरा भरने से सफाई कर्मचारी का परिवार बेहद खुश नजर आया।

सोडाला थाने का स्टाफ नाचते-गाते मायरा लेकर विवाह स्थल पर पहुंचा। पुलिस को देख कर एक बार तो सभी लोग खड़े हो गए। इस पर पुलिकर्मियों ने बताया कि वह मायरा लेकर आए हैं। इसके बाद सफाई कर्मचारी के परिवार ने सभी पुलिसकर्मियों का स्वागत किया।

पुलिस स्टाफ ने 3.11 लाख रुपए का मायरा भरा

सीआई राजेश कुमार सिंह ने बताया- पूनमचंद की तीन पीढ़ियां सोडाला थाने में सफाई की व्यवस्था देखते हैं। पहले उनके पिता यहां सफाई करते थे और अब उनका बेटा थाने में सफाई का काम करते हैं। पूनमंचद ने बताया कि उसकी 2 बेटियों की शादी है। इस पर थाना के स्टाफ ने तय किया कि थाने की ओर से मायरा भरा जाना चाहिए। इस पर उन्होंने 21 हजार रुपए दिए। इसके अलावा एसआई और एएसआई ने 6100 रुपए दिए। हेड कॉन्स्टेबल और कॉस्टेबल ने मिलकर 51 हजार रुपए दिए।

ये भी पढे

सीआई ने बताया- मंगलवार को पूनमचंद की दोनों बेटियों की शादी थी। अजमेर रोड स्थित एक मैरिज गार्डन में हुई शादी में थाने का पूरा स्टाफ शामिल हुआ और मायरा भरा। मायरे में 2 लाख 81 हजार रुपए नकदी के साथ ही 30 हजार रुपए के कपड़े और गहने दिए। बेटियों की शादी में थाना पुलिस के मायरा भरने और मौजूदगी से पूनमचंद का परिवार काफी खुश नजर आया।

मेरे और मेरे परिवार के पास कोई शब्द नहीं

सफाई कर्मचारी पूनमचंद ने बताया कि उनको अंदाजा नहीं था कि थाने का स्टाफ उनसे और उनके परिवार से इतना प्रेम करता है। थाना स्टाफ के मायरा लाने से दिल भर गया। मेरे जीवन का इससे सुनहरा पल कोई और नहीं हो सकता है। यह मेरे जीवन में इमानदारी से काम का करने का परिणाम है। मेरा पूरा परिवार और समाज के लोग इससे काफी खुश हैं। जो अपनत्व थाना पुलिस के स्टाफ ने दिखाया, उसके लिए मेरे ही नहीं मेरे परिवार के पास भी कोई शब्द नहीं है। मैं बस इतना कह सकता हूं कि मेरा दिल बहुत खुश है।

इस तरह के काम से पुलिस के बारे में लोगों की सोच बदलती है

जयपुर पुलिस कमिश्नर बीजू जॉर्ज जोसफ ने बताया कि जयपुर पुलिस की ओर से मायरा भरने की परम्परा नई नहीं हैं। इससे पहले भी करधनी थाना, चित्रकूट थाना, करणी विहार थाना, कानौता थाना पुलिस ने अपने यहां काम करने वाले स्टाफ के शादी समारोह में जाकर मायरा भरा है। इस तरह के एक्ट से पुलिस के बारे में लोगों की सोच बदलती है। यह अच्छा काम है, जिसे जब मौका मिले उसे इस तरह के काम करने चाहिए। ऐसी पहल को अन्य लोगों को भी अपनाना चाहिए।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA