सचिन पायलट ने कहा युवाओं से रोजगार छीन रही सरकार:

PALI SIROHI ONLINE

जयपुर-राजीव गांधी युवा मित्रों के समर्थन में टोंक विधायक सचिन पायलट ने शुक्रवार को शहीद स्मारक पर धरना दिया। इस दौरान पायलट ने कहा कि राजस्थान की भाजपा सरकार झूठे वादे कर सत्ता में आई है। कैबिनेट की पहली बैठक से पहले युवाओं से रोजगार छीन लिया गया, जो सरकार की गलत मंशा को दर्शाता है।

पायलट ने कहा- अगर सरकार को राजीव गांधी के नाम से इतनी ही नफरत है, तो उनको योजना का नाम राजीव गांधी की जगह कुछ और रख देना चाहिए, लेकिन 5000 युवाओं से रोजगार नहीं छीना जाना चाहिए। मैं और कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से युवाओं के साथ हैं। हम सदन में भी पुरजोर तरीके से युवाओं की मांग को उठाएंगें, ताकि 5000 युवाओं को फिर से रोजगार मिल सके।

उन्होंने कहा- सरकार ने जिस तरह से नौकरियों को खत्म करने का काम किया है। उससे संदेश यहीं जा रहा है कि बीजेपी की सरकार नौकरी देना नहीं, बल्कि छीनना चाहती है। हालात इतने बिगड़ गए हैं कि युवाओं को अपनी जायज मांग के लिए विरोध भी नहीं करने दिया जा रहा है। यहां धरने तक की परमिशन इनको नहीं मिल पाई।

पायलट ने कहा- राजस्थान की भाजपा सरकार ने महामहिम के पद को राजनीतिक छींटाकशी में फंसाने का काम किया है। पुरानी सरकार को कोसने का काम चुनाव प्रचार में किया जा सकता है, लेकिन विधानसभा के पटल पर राज्यपाल के अभिभाषण में ऐसा नहीं होना चाहिए था। भाजपा सरकार अगले 5 साल क्या काम करेगी, उनका विजन क्या है, उनकी योजनाएं क्या है। इस पर राज्यपाल का अभिभाषण होना चाहिए था, लेकिन इसकी जगह पूर्व सरकार पर आरोप लगाना भाजपा की मानसिकता को दर्शाता है।

केंद्र में भाजपा की सरकार सत्ता में आई थी, उस वक्त उन्होंने वादा किया था कि हम हर साल 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे। लेकिन अब तक केंद्र सरकार अपना एक भी वादा पूरा नहीं कर पाई। बल्कि, राजस्थान में बीजेपी सरकार के गठन के बाद युवाओं से रोजगार छीनने का काम शुरू हो गया है। सरकार को यह नहीं भूलना चाहिए कि लोकसभा चुनाव भी आ रहे हैं।

पायलट ने कहा- युवा रोजगार के लिए धरना दे रहे हैं, खिलाड़ी अपनी मांगों के लिए धरना दे रहे हैं, लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हो रही है। अमीर और अमीर हो रहा है, जबकि गरीब और गरीब होता जा रहा है। बीजेपी वैसे भी भावनात्मक मुद्दों पर राजनीति करती है। उनको धरातल पर राजनीति करने का कोई अनुभव नहीं है।

दरअसल, कांग्रेस सरकार के वक्त शुरू हुई राजीव गांधी युवा मित्र को भाजपा सरकार के गठन के बाद बंद कर दिया गया था। इसके बाद पिछले महीने दिसंबर में युवा मित्रों ने शहीद स्मारक पर 5 दिन (27 दिसंबर से 31 दिसंबर) का धरना दिया था। इसके बाद 13 जनवरी से एक बार फिर प्रदेशभर के युवा मित्र सरकार के खिलाफ शहीद स्मारक पर धरना दे रहे हैं, लेकिन अब तक सरकार के स्तर पर इस मुद्दे पर कोई चर्चा तक नहीं हुई है। इसको लेकर अब युवाओं का विरोध लगातार बढ़ता जा रहा है।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA