राजस्थान में 22 जनवरी को आधे दिन की छुट्टी: मुख्यमंत्री भजनलाल ने की घोषणा; विधायक दल की बैठक में पूर्व सीएम वसुंधरा नहीं पहुंचीं

PALI SIROHI ONLINE

जयपुर-अयोध्या में 22 जनवरी को रामलला की प्राण प्रतिष्ठा वाले दिन राजस्थान में आधे दिन की छुट्टी रहेगी। सीएम भजनलाल शर्मा ने गुरुवार रात भाजपा प्रदेश कार्यालय में हुई बीजेपी विधायक दल की बैठक में इसकी घोषणा की। बैठक में पूर्व सीएम वसुंधरा राजे नहीं पहुंचीं। वहीं राजे समर्थित विधायक प्रताप सिंह सिंघवी सीएम के पहुंचने से पहले ही कार्यालय से निकल गए।

बैठक के बाद मंत्री सुरेश रावत ने कहा कि सभी मंत्रियों को आने वाले समय में भाजपा प्रदेश कार्यालय में जनसुनवाई के निर्देश दिए हैं। बैठक में सभी विधायकों ने सदन चलाने के लिए अपने-अपने सुझाव दिए।

मंत्री चौधरी बोले- सीएम से पूरे दिन की छुट्टी की मांग की कैबिनेट मंत्री कन्हैया लाल चौधरी ने कहा 22 जनवरी को पूरे दिन की छुट्टी की मांग की। उन्होंने कहा कि हमने सीएम भजनलाल शर्मा से निवेदन किया है कि 22 जनवरी को पूरे दिन की छुट्टी की घोषणा करें। आधे दिन की छुट्टी की घोषणा तो हो गई है, लेकिन हमने पूरे दिन की छुट्टी की मांग की है। विधानसभा सत्र को लेकर कहा कि कांग्रेसियों के इतने कुकर्म है कि हम उन्हें छठी का दूध याद दिलाएंगे। उनके सारे कुकर्म उजागर करेंगे।

बता दें शुक्रवार से शुरू हो रहे विधानसभा सत्र से पहले भाजपा विधायकों की बैठक बुलाई गई थी। विधायक दल की बैठक में मंच पर सीएम भजनलाल शर्मा, प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी, उप मुख्यमंत्री दीया कुमारी, उप मुख्यमंत्री प्रेमचंद बैरवा, सरकारी मुख्य सचेतक जोगेश्वर गर्ग को जगह दी गई थी।

इससे पहले मुख्यमंत्री के बीजेपी ऑफिस पहुंचने पर आरएएस परीक्षा के अभ्यर्थियों ने आभार जताया। सीएम गेट पर गाड़ी से उतरे और अभ्यर्थियों से मुलाकात की। इस मौके पर आरएएस अभ्यर्थियों ने नारेबाजी भी की।

विधानसभा सत्र को लेकर बनी रणनीति


भाजपा विधायक दल की बैठक में विधानसभा सत्र को लेकर रणनीति बनाई गई। विधानसभा सत्र में सरकार को घेरने के लिए विपक्ष पहले ही ऐलान कर चुकी है। कांग्रेसी विधायकों ने बड़ी संख्या में विधानसभा में सरकार के खिलाफ सवाल लगाए हैं। ऐसे में इन तमाम मुद्दों को लेकर आज भाजपा विधायक दल की बैठक में विधानसभा सत्र को लेकर रणनीति बनाई। खास तौर पर मंत्रियों को यह बताया गया कि किस तरह से सदन में जवाब देना हैं, क्योंकि भजनलाल की कैबिनेट के अधिकतर मंत्री पहली बार विधानसभा में जवाब देंगे।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA