सांडेराव-ढोला पर नए बने रोड़वेज बस स्टैंड यहां टॉयलेट की फोटो लेते हैं यात्री, गार्डन और सेल्फी पॉइंट भी; लेकिन सालों से बसों का इंतजार

PALI SIROHI ONLINE

नटवर मेवाड़ा

सांडेराव-ढोला पर नए बने रोड़वेज बस स्टैंड यहां टॉयलेट की फोटो लेते हैं यात्री, गार्डन और सेल्फी पॉइंट भी; लेकिन सालों से बसों का इंतजार

साण्डेराव- स्थानीय नगर से 18 किलोमीटर दूर तथा जिला मुख्यालय पाली से 48 किमी दूर ढोला गांव का बस स्टैंड लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र बन चुका है। इस बस स्टैंड को यहां की पंचायत समिति के साथ मिलकर भामाशाह ने डेवलप किया है। लेकिन, हाइवे बनने के बाद यहां पिछले कई सालों से कोई भी बस नहीं रुकी है। ग्रामीणों इसके लिए NH 65 पर पुलिया के पास खड़े होना पड़ता है। जबकि बस स्टैंड यहां से महज कुछ फीट की दूरी पर है।
यहां के सरपंच जो सरपंच संघ के जिला अध्यक्ष हैं उनका‌ कहना है कि इसके लिए कई बार डिपो प्रबंधक से गुहार भी लगाई लगी लेकिन, समस्या जस की तस है। बस स्टैंड अपनी कई खासियत के साथ यहां आने वालों के लिए भी आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। लेकिन पिछले कई सालों से इसे बसों का इंतजार है।ढोला गांव के बस स्टैंड परिसर में पंचायत की ओर से बनाया गया बस के आकार का टॉयलेट।

50 फीट की दूरी पर फ्लाईओवर

25 जून 2023 को जर्जर बस स्टैंड को भामाशाह और ढोला सरपंच मेघाराम परमार ने पंचायत समिति की सहायता से तैयार करवाया था। सरपंच मेघाराम परमार का कहना है- इतना सुंदर बस स्टैंड बन जाने के बाद भी यहां रोडवेज की बसें नहीं रूकती है। इस संबंध में कई बार रोडवेज से गुहार लगाई है। लेकिन, नेशनल हाईवे बन जाने के बाद बसें फ्लाईओवर से ही गुजर जाती हैं। बसें जिस फ्लाईओवर से गुजरती है वो यहां से सिर्फ 50 फीट की दूरी पर है। ऐसे में अगर बसें यहां रुकने लगे तो ग्रामीणों को बहुत सहूलियत होगी।

ढोला गांव के बस स्टैंड परिसर में बनाया गया सेल्फी पॉइंट।टूरिस्ट स्पॉट की तर्ज पर बस स्टैंड

सरपंच परमार बताते हैं- पुराने बस स्टैंड का रेनोवेशन करवा कर इसे नया रूप दिया गया था। इस बस स्टैंड पर गार्डन विकसित किया गया। गार्डन को यात्रियों के लिए बैठने के लिए बनाया गया था। बुकिंग खिड़की बनाई गई है इसके साथ ही I LOVE DHOLA सेल्फी पॉइंट भी बनाया गया। इसे एक टूरिस्ट स्पॉट की तरह तैयार किया गया है। सुबह-शाम कई ग्रामीण यहां योग, व्यायाम करने आते हैं। तो युवा यहां आकर सेल्फी लेते नजर आ जाते हैं।

ढोला गांव में दानदाता द्वारा बनाया गया बस स्टैंड।बस की शेप में बना है टॉयलेट

सरपंच परमार कहते हैं- इस बस स्टैंड पर टॉयलेट की भी अलग खासियत है। यहां बस के शेप में महिला और पुरुष के लिए टॉयलेट्स का निर्माण कराया गया है। दूर से देखने में ऐसा लगता है जैसे कोई बस खड़ी हो। पास जाने पर पता चलता है कि यह टॉयलेट है। इस बस नुमा टॉयलेट के बाहर खड़े होकर लोग फोटो, सेल्फी भी लेते हैं।

बस स्के ढोला गांव में बस स्टैंड के उद्घाटन करने का लगाया गया शिलालेख। सांसद-विधायक ने किया था उद्घाटन

सरपंच के अनुसार, बता दें कि 25 जून 2023 को ढोला गांव में भामाशाह ने सुखीबाई पत्नी वरदीचंद पगारिया की स्मृति में यह बस स्टैंड बनाया था। इस परिसर में पंचायत ने बस के आकार का टॉयलेट बनाया था। सांसद पीपी चौधरी, सुमेरपुर विधायक और मंत्री जोराराम कुमावत भी इसके उद्घाटन में पहुंचे थे। लेकिन आज लाखों रुपए की लागत से बना यह बस स्टैंड यात्रियों को तरस रहा है। रोडवेज बस चालक यहां बस नहीं रोकते है और ओवरब्रिज से होकर निकल जाते हैं। ऐसे में यहां यात्रियों को बस पकड़ने के लिए ओवरब्रिज के पास खड़ा होना पड़ता है।

ढोला गांव के बस स्टैंड पर बने सेल्फी पॉइंट पर सेल्फी लेते युवा।

मामले में ढोला सरपंच मेघाराम परमार ने बताया कि इसको लेकर कई बार जिला कलेक्टर और रोडवेज प्रबंधक को पत्र लिख बस स्टैंड पर बसों के ठहराव की मांग कर चुके है लेकिन हर बार आश्वासन मिला बसें अभी भी रूकना शुरू नहीं हुई है।इधर, पाली डिपो के मुख्य प्रबंधक मोहन मीणा ने बताया कि बस ड्राइवरों को पाबंद करेंगे कि वे बस स्टैंड पर रूके और वही से सवारियां लेकर जाए।
ढोला गांव में हाइवे किनारे बैठे यात्री बस का इन्तजार करते हुए।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA