बड़ी सोच का बड़ा जादु- मांगना ही हैं तो कुछ बड़ा मांगते– सोलंकी

PALI SIROHI ONLINE

जगदीश सिंह गहलोत नारलाई की रिपोर्ट

बड़ी सोच का बड़ा जादु- मांगना ही हैं तो कुछ बड़ा मांगते– सोलंकी , बांध की मांग करते तो तालाब जरुर मिलता और सिंचाई जल आपूर्ति के साथ पेयजल तो बाईडिफ़ॉल्ट मिल जाता

देसूरी। गांव के सीधे-सादे लोग और उनकी अपनी ग्राम पंचायत के सरल सरपंच भी बेचारे इतने सीधे-सादे होते हैं कि वे जब अपने विधायक से अपने गांव की सुविधाओं को लेकर मांग भी करते हैं तो वह बहुत छोटी मांग होती हैं, जिसे विधायक महोदय आसानी से पूरी कर लेते है। हाल ही में बड़ौद ग्राम पंचायत के सरपंच साहब ने बताया कि सरथूर गांव में ट्यूबवेल बोरिंग खुदवाने की मांग की, जिसे तुरंत प्रभाव से विधायक महोदय ने तुरंत स्वीकार करते हुए कार्य आदेश भी जारी कर दिए। कार्य भी शुरू हो गया और गंगा मैया की मेहर से पानी भी भरपूर निकल आया, ऐसा ग्रामीणों का कहना हैं। यह तो हुई सीधे-सादे ग्रामीणों की बात लेकिन अगर गांव के लोग और सरपंच साहब थोड़ी सी होशियारी दिखाते हुए गांव के ऊपर पहाड़ियों में एक बांध निर्माण की मांग करते तो शायद एक बड़े तालाब की मंजूरी तो जरुर मिल सकती थी। यदि एक तालाब भी अगर बनता हैं तो गांव के कुँओं का जल स्तर ऊपर उठता हैं और साथ में किसानों को अपने खेतों की सिंचाई के लिए भी पर्याप्त जल भी उपलब्ध हो जाता था, लेकिन हमारे गांव के लोगो की सोच बहुत छोटी होती जा रही हैं इसलिए वे कोई सरकार से मांग भी करते हैं तो वे मांगे बहुत छोटी-छोटी होती जा रही हैं। पीने के पानी की मांग एकदम छोटे स्तर की मांग हैं अगर गांव के लोग खेतों के सिंचाई के लिए जल प्रबंधन की एक बड़ी मांग करे तो पेयजल तो उसमें बाईडिफ़ॉल्ट मिल ही जाएगा। ट्यूबवेल के माध्यम से धरती मां के आंचल को चूस-चूस कर जमीन के जल स्तर को आखिर कितना गहरा ले जाएंगे ?यही हाल रहा तो आखिर एक दिन जमीन के गहरे तल से ट्यूबवेल से तेलीय खारा-पानी के अलावा कुछ नहीं मिलेगा।

भरतकुमार सोलंकी

वित्त विशेषज्ञ

मारवाड़ की स्थानीय जनता की ओर से सिंचाई जल आपूर्ति के लिए डैम निर्माण की मांग को ज़ोर-शोर से उठाया जाए।डैम निर्माण की मांग स्वीकार किए बिना कोई भी संस्था किसी भी पार्टी के नेताओं का स्वागत हार फ़ुल मालाओं से नहीं करेंगे। जिस दिन डैम निर्माण कार्य का उद्घाटन होगा हम पांच ट्रक फूलों से हेलिकॉप्टर द्वारा पुष्पवर्षा कर नेताओं का स्वागत करेंगे तब तक के लिए हार फूल मालाओं से स्वागत बंद रहेगा।
—-भरतकुमार सोलंकी

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA