जयपुर- विघार्थी को आया हार्ट अटैक:स्कूल क्लास में जाते समय हुआ बेहोश, हॉस्पिटल में इलाज के दौरान तोड़ा दम

PALI SIROHI ONLINE

जयपुर-जयपुर में प्राइवेट स्कूल में पढ़ने वाले 14 साल के स्टूडेंट की कार्डियक अरेस्ट (हार्ट अटैक) से मौत हो गई। स्टूडेंट अपनी क्लास में जा रहा था, तभी उसकी तबीयत बिगड़ी और वह नीचे गिर गया।

इस पर स्कूल टीचर ने उसे संभाला और प्राइवेट हॉस्पिटल पहुंचाया। यहां सीपीआर देने के बाद उसे सवाई मान सिंह (SMS) हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। मामला 19 दिसंबर का है।

करधनी थाने के हेड कॉन्स्टेबल मनोज ने बताया- योगेश सिंह (14) पुत्र तंवर सिंह प्राइवेट स्कूल में 9वीं क्लास में पढ़ता था। 19 दिसंबर को वह घर से स्कूल पहुंचा था। यहां क्लास में जाते समय उसको कार्डियक अरेस्ट आ गया।

स्कूल टीचर ने उसे रावण गेट स्थित प्राइवेट हॉस्पिटल पहुंचाया। यहां से उसे SMS हॉस्पिटल रेफर कर दिया, जहां डॉक्टर ने उसको मृत घोषित कर दिया। परिजनों के साथ ही पुलिस को भी सूचना दी गई। योगेश का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमॉर्टम कराया गया। सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं।

हार्ट का साइज बढ़ गया, पंप नहीं कर पा रहा था

मेडिकल ज्यूरिस्ट कालूराम यादव ने बताया कि मांसपेशियां अत्यधिक सिकुड़ने और हार्ट का साइज बढ़ने से मौत हुई है। सामान्य व्यक्ति के हार्ट का वजन 250 से 300 ग्राम होता है, लेकिन योगेश के हार्ट का वजन 650 ग्राम था। उसका हार्ट पंप नहीं कर पा रहा था, जिसके कारण उसकी मौत हो गई। सैंपलों को जांच के लिए अलग-अलग जगह पर भेजा गया है, जिसकी रिपोर्ट आनी बाकी है।

बच्चे को तुरंत हॉस्पिटल पहुंचाया, लेकिन जान नहीं बची स्कूल डायरेक्टर विनोद शेखावत ने बताया कि 19 दिसंबर को योगेश 8 बजे स्कूल में घुसा था। योगेश को उसका बड़ा भाई स्कूटी पर छोड़ने आया था। योगेश स्कूटी के गेट से पैदल क्लास रूम तक पहुंचा, इसी दौरान 8 बजकर 10 मिनट पर बेहोश हो गया।

योगेश को तुरंत पास ही स्थित एक प्राइवेट हॉस्पिटल में पहुंचाया गया, जहां डॉक्टरों ने सीपीआर दिया। बच्चे की हालत में सुधार नहीं होने पर उसे SMS हॉस्पिटल रेफर कर दिया गया। स्कूल प्रशासन ने परिजनों को सूचना दी और एंबुलेंस की मदद से बच्चे को SMS हॉस्पिटल पहुंचाया, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया।

योगेश पूरी तरह फिट था, कोई दिक्कत नहीं थी

योगेश के पिता तंवर सिंह ने बताया कि बेटा पूरी तरह फिट था। उसे बचपन में जुकाम की शिकायत थी। डॉक्टरों ने बताया था कि 12 साल तक यह परेशानी रहेगी। 12 साल बाद जुकाम की परेशानी दूर हो गई थी। बेटे ने किसी भी प्रकार की कोई परेशानी के बारे में हमें या उसके भाई को नहीं बताया था। मृतक छात्र के भाई ने बताया कि वह सुबह उठा और दोनों के लिए चाय बनाई थी। उसकी तबीयत भी ठीक थी।

सीकर स्थित गांव गए हुए थे माता-पिता

योगेश के पिता तंवर सिंह बीएसएफ में हैं। उनकी पोस्टिंग जम्मू-कश्मीर में हैं, जो छुट्टियों पर घर आए हुए थे। 19 दिसंबर को योगेश के माता-पिता सीकर के फतेहपुर के पास उनके गांव गए हुए थे। तंवर सिंह पिता की तबीयत खराब होने के कारण उनसे मिलने गए हुए थे। स्कूल से सूचना मिलने के बाद परिजन SMS हॉस्पिटल पहुंचे थे।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA