पूर्व मंत्री रामलाल जाट को गिरफ्तारी का डर, कल सुनवाई

PAKI SIROHI ONLINE

जोधपुर-प्रदेश के पूर्व राजस्व मंत्री रामलाल जाट को अब 5 करोड़ की धोखाधड़ी के केस में गिरफ्तारी का डर सता रहा है।

इससे बचने के लिए जाट ने हाईकोर्ट का सहारा लिया है। 20 दिसंबर को हाई कोर्ट में उन पर भीलवाड़ा के करेड़ा थाने में दर्ज 5 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी मामले में सुनवाई होगी। पूर्व मंत्री ने 14 दिसंबर को दर्ज एफआईआर के खिलाफ हाईकोर्ट में पिटीशन दायर की थी।

पूर्व राजस्व मंत्री रामलाल जाट सहित 5 लोगों के खिलाफ 17 सितंबर को कोर्ट के आदेश पर भीलवाड़ा के करेड़ा थाने में धोखाधड़ी और चोरी का मामला दर्ज किया गया था। राजसमंद के माइनिंग व्यवसायी परमेश्वर ने आरोप लगाया था कि करोड़ों रुपए की ग्रेनाइट माइंस में 50 प्रतिशत शेयर मंत्री ने अपने छोटे भाई के बेटे और उसकी पत्नी के नाम करवाए थे।

इसके बदले 5 करोड़ रुपए देने का वादा किया था, लेकिन कागज नाम होने के बाद रुपए नहीं दिए गए।

20 दिसंबर को होगी सुनवाई
रामलाल जाट ने करेड़ा थाने में उनके खिलाफ दर्ज एफआईआर 211 के खिलाफ हाई कोर्ट में पिटीशन दायर की है। उन्होंने सेक्शन 482 सीआर पीसी (204) के तहत उन पर दर्ज एफआईआर को खारिज करने व गिरफ्तारी पर रोक लगाने की अपील की है।

17 सितंबर को दर्ज हुआ मामला, दूसरे दिन SHO का

तबादला

भीलवाड़ा के करेड़ा थाने में 17 सितंबर को मांडल (भीलवाड़ा) कोर्ट के आदेश पर तत्कालीन थाना प्रभारी ओम प्रकाश गोरा ने FIR दर्ज की थी। रिपोर्ट में ज्ञानगढ़ निवासी पूरणलाल पुत्र मन्नु गुर्जर, अंटाली प्रतापपुरा निवासी सूरज जाट, अंटाली निवासी महिपाल सिंह, प्रतापपुरा निवासी रामलाल जाट, प्रतापपुरा निवासी महावीर प्रसाद पुत्र रामस्वरूप चौधरी का नाम है।

खास बात थी कि रिपोर्ट दर्ज होने के दूसरे दिन ही थाना प्रभारी ओम प्रकाश का ट्रांसफर हो गया था। उनके ट्रांसफर को भी इस मामले से जोड़कर देखा गया था और यह काफी चर्चा में रहा था।

माइंस कंपनी का रजिस्ट्रेशन किसी और के नाम था माइनिंग व्यवसायी राजसमंद के गढ़बोर निवासी परमेश्वर पुत्र रामलाल जोशी ने पुलिस को रिपोर्ट में बताया था कि वह करेड़ा के रघुनाथपुरा में मैसर्स अरावली ग्रेनि मार्मो प्रा.लि नाम से ग्रेनाइट मांइस का काम करता है। माइंस में वह डायरेक्टर और शेयर होल्डर है।

इस कंपनी का रजिस्ट्रेशन श्याम सुंदर गोयल व चंद्रकांत शुक्ला के नाम से है। जिस समय कंपनी का रजिस्ट्रेशन हुआ था, उस समय परमेश्वर श्याम सुंदर व चंद्रकांत से 10 करोड़ रुपए मांगता था। इसके चलते इन दोनों ने माइंस के 50 प्रतिशत शेयर परमेश्वर व उसकी पत्नी भव्या जोशी के नाम पर कर दिए थे।

रिश्तेदारों के नाम करवाए शेयर
आरोप है कि बाकी के 50 प्रतिशत शेयर का सौदा श्याम सुंदर व चंद्रकांत ने पूर्व मंत्री रामलाल जाट से कर दिया। रामलाल जाट ने माइंस के शेयर अपने रिश्तेदार मोना चौधरी व सुरेश जाट के नाम पर करवा दिए। इन शेयर के पैसे पूर्व मंत्री को देने थे। परमेश्वर (माइनिंग कारोबारी) श्याम सुंदर व चंद्रकांत से 5 करोड़ रुपए और मांगता था।

इन दोनों ने बकाया 5 करोड़ रुपए शेयर खरीदने वाले रामलाल जाट से लेने के लिए कहा था।

पूर्व मंत्री ने रुपए देने से किया इनकार
आरोप है कि पूर्व मंत्री ने परमेश्वर से शेयर के कागज ट्रांसफर होते ही 5 करोड़ रुपए देने का वादा किया था। 50 प्रतिशत शेयर मोना व सुरेश जाट के नाम ट्रांसफर कर दिए। इसके बाद परमेश्वर ने 5 करोड़ रुपए मंत्री से मांगे। पूर्व मंत्री ने साफ इनकार कर दिया। 2 करोड़ रुपए देने का आश्वासन दिया। वो 2 करोड़ रुपए भी नहीं मिले।

कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुआ था मामला
परमेश्वर का आरोप है कि उसने रुपए नहीं मिले तो आपत्ति की। इस पर पूर्व मंत्री भड़क गए। अपने राजस्व मंत्री पद पर होने की बात कहते हुए धमकाया। इसके बाद 17 जून 2022 को माइंस पर काम कर रहे लेबर को वहां से डराकर भगा दिया।

इसके बाद पीड़ित परमेश्वर ने करेड़ा थाने में शिकायत की थी लेकिन उसका मामला दर्ज नहीं किया गया। इसके बाद परमेश्वर को कोर्ट का सहारा लेना पड़ा था।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA