पाली- हत्या के 7 आरोपियों को आजीवन कारावासः लाठियों से मारपीट में गई थी जान

PALI SIROHI ONLINE

पाली-हत्या मामले में सात दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई। आरोपियों पर जुर्माना भी लगाया गया। फैसला जिला एवं सेशन न्यायाधीश पाली एमआर सुथार ने सुनाया।

न्यायालय के लोक अभियोजक चंद्रभानसिंह राजपुरोहित ने बताया कि रोहट थाना क्षेत्र के चाडो का ढाणा बागड़िया निवासी कालूराम पुत्र बलदेवराम ने 8 मई 2016 को रोहट थाने में रिपोर्ट दी। जिसमें बताया कि 7 मई 2016 की दोपहर को उसके व कालूराम के बेटे मवेशियों को चराने जंगल में गए थे। जहां उन्हें कहासुनी हो गई। रिपोर्ट में बताया कि शाम को वह, शिवलाल और उसके बेटे पप्पूराम, रमेश, धन्नाराम घर पर बैठे थे। इस दौरान कालूराम, सतुराम, सुखदेव, कमल, रामलाल, गोलुराम, लालाराम और जीवाराम हाथों में लाठियां लेकर पहुंचे और उन पर हमला कर दिया।

हमले में शिवलाल, पपूराम, रमेश और धन्नाराम के सिर और बॉडी पर गंभीर चोट आई। उनकी चीख-पुकार की आवाज सुनकर मोहल्लेवासियों ने बीच-बचाव कर छुड़ाया। घायलों को इलाज के लिए पाली के बांगड़ हॉस्पिटल ले गए थे। जहां गंभीर घायल शिवलाल पुत्र कालूराम को जोधपुर रेफर किया था, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी।मामले में 6 दिसम्बर 2023 को जिला एवं सेशन न्यायाधीश पाली एमआर सुथार ने दोनों पक्षों के अधिवक्ताओं की बहस व गवाहों के बयान सुनने के बाद अभियुक्त कालूराम,कमलेश, सतुराम उर्फ सीताराम, रामलाल, गोलुराम, जीवाराम और लाललाराम को शिवलाल पुत्र कालूराम की हत्या का दोषी मानते हुए आजीवन कारावास और जुर्मान की सजा सुनाई।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA