13 मार्च से इस राशि वालों पर होगी मंगल की कृपा, बन रहा धन आगमन का योग

PALI SIROHI ONLINE

Mangal Gochar 2023: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हर ग्रह अपने निश्चित समय पर गोचर करता है. मंगल ग्रह का संबंध क्रोध, वैवाहिक जीवन और साहस और पराक्रम का कारक माना गया है. मंगल ग्रह मेष व वृश्चिक राशि के स्वामी हैं, साल 2023 में मंगल ग्रह कुल 7 बार अपना स्थान परिवर्तन करेंगे. इसका लाभ अन्य राशियों को तो होगा ही लेकिन ये राशियों के लिए ये साल बेहद खास रहने वाला है. 
ग्रहों के सेनापति मंगल को भूमि, भवन, योद्धा का कारक माना गया है. मंगल जातक को क्रोधी बनता है. बता दें कि मंगल मकर और मीन राशि में होते हैं, तो ज्यादा शुभ फल प्रदान करते हैं. आइए जानें ये साल मंगल किन दो राशियों के जीवन में खुशियां भरने वाले हैं. मंगल ग्रह आमतौर पर किसी भी राशि में 45 दिन तक विराजमान रहते हैं. इसके बाद दूसरी राशि में प्रवेश कर जाते हैं. मंगल के एक राशि के दूसरी राशि में प्रवेश करने को राशि परिवर्तन या राशि गोचर कहा

जाता है.

मंगल ग्रह अब 13 मार्च 2023 को वृषभ राशि से निकलकर मिथुन राशि में प्रवेश करने वाले हैं. मंगल ग्रह के मिथुन राशि में आने से कई राशियों के अच्छे दिन आ सकते हैं. जानें गोचर काल की लकी राशियां और पूरे साल में कब-कब मंगल गोचर करेंगे पूरी डिटेल्स आपके लिए लेकर आएं है जिससे मिलने वाले शुभ-अशुभ फल जान आप उपाय से लेकर सचेत रह सकते हैं.

साल 2023 में मंगल गोचर की लिस्ट

• 13 मार्च 2023, सोमवार सुबह 05 बजकर 33 मिनट पर वृषभ राशि से निकलकर मिथुन राशि में प्रवेश कर जाएंगे.

• 10 मई 2023, बुधवार दोपहर 02 बजकर 13 मिनट

पर मिथुन राशि से निकलकर कर्क राशि में प्रवेश करेंगे.

  • 01 जुलाई 2023, शनिवार सुबह 02 बजकर 38 मिनट पर कर्क राशि से निकलकर सिंह राशि में विराजमान होंगे. – 18 अगस्त 2023, शुक्रवार संध्या काल में 04 बजकर 13 मिनट पर सिंह राशि से कन्या राशि में प्रवेश करेंगे. • 03 अक्टूबर 2023, मंलवार शाम 06 बजकर 17 मिनट पर कन्या राशि से निकलकर तुला राशि में गोचर

करेंगे.

16 नवंबर 2023, गुरुवार सुबह 11 बजकर 04 मिनट

पर तुला राशि से निकलकर वृश्चिक राशि में प्रवेश कर जाएंगे. 28 दिसंबर 2023, बुधवार रात 12 बजकर 37 मिनट पर वृश्चिक राशि से निकलकर धनु राशि में गोचर करेंगे.

मीन राशि में गुरु-शुक्र की युति, 15 फरवरी से इन 4

राशियों की छिन सकता है सुख चैन

वृषभ राशि

मंगल राशि परिवर्तन से वृषभ राशि वालों के जातक का भाग्य का सितारा बुलंद होगा. ज्योतिष बताते है कि मंगल का मिथुन राशि में गोचर वृषभ राशि के जातकों के लिए, मंगल बारहवें और सातवें भाव का स्वामी है और यह दूसरे भाव में गोचर कर रहा है. दूसरा भाव परिवार, सेविंग्स और वाणी का प्रतिनिधित्व करता है. प्रिय वृषभ राशि के जातकों, दूसरे भाव में यह गोचर आपको अपनी वाणी में कठोर और प्रभावशाली बना सकता है. इसलिए आपको मृदुभाषी रहने और संवाद करते समय सतर्क रहने की सलाह दी जाती है. इंजीनियरिंग छात्रों के लिए समय बेहद अनुकूल रहेगा. अष्टम भाव पर मंगल की दृष्टि संपत्ति लाभ पहुंचाएगी. ड्राइव करते समय सावधानी बरतें.

सिंह राशि

मिथुन राशि में मंगल का गोचर करने से सिंह राशि के जातकों के लिए मंगल नवम भाव और चतुर्थ भाव का स्वामी है ऐसे में ये आपके लाभ और इच्छाओं के एकादश भाव में गोचर करेगा. एकादश भाव में मंगल का यह गोचर भौतिक सुखों में लाभ देने के साथ आपकी तमाम इच्छा को पूर्ति करेगा. आर्थिक लाभ के लिए यह समय अनुकूल है, कए गए निवेशों से अच्छा खासा मुनाफा मिलने की संभावना है, आमदनी की प्रबस संभावना बन रही है. वित्तीय संबंधी रणनीति बनाने का अच्छा समय है.

मकर राशि

मकर राशि के जातकों, मंगल आपके चतुर्थ भाव और

एकादश भाव का स्वामी है और अब मिथुन राशि में मंगल का

गोचर छठे भाव, शत्रु, स्वास्थ्य, प्रतिस्पर्धा भाव में होगा. ऐसे में छठे भाव में मंगल की स्थिति जातकों के लिए विशेष योग बनेगा. आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता और स्वास्थ्य अच्छा रहेगा, आपके शत्रु आपके सामने नतमस्तक होगें. छठे भाव से मंगल आपके नवम भाव, बारहवें भाव और लग्न पर दृष्टि होगी. इसलिए आपको अपने पिता के स्वास्थ्य और

सेहत के प्रति सचेत रहने की आवश्यकता है. विदेश की यात्रा

करनी पड़ सकती है. आपके खर्चे बढ़ सकते हैं.

मीन राशि मिथुन राशि में मंगल के गोचर से पता चलता है कि मंगल के पास दूसरे और नौवें भाव का स्वामी है और अब यह मीन राशि के जातकों के माता, घर, घरेलू जीवन, भूमि, संपत्ति और वाहन के चौथे भाव में गोचर कर रहा है. मंगल बृहस्पति और मीन राशि का मित्र ग्रह है और चौथे भाव में मंगल का गोचर अच्छा साबित होगा. मीन राशि के जातकों, चतुर्थ भाव में इस गोचर के साथ, आपको अपने परिवार और माता-पिता का सहयोग मिलेगा. आपको संपत्ति मिलने के योग बन रहे है. कोई नया वाहन या संपत्ति अर्जित कर सकते हैं. मंगल ग्रह चतुर्थ भाव से आपके सप्तम भाव, दशम भाव और एकादश भाव पर दृष्टि होगी. व्यापार बढ़ाने और वृद्धि के मामले में अप्रत्याशित लाभ मिलेगा. आपको अपने वैवाहिक जीवन के प्रति सचेत रहे.

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA