जैन समाज ने आहोर पंचायत समिति के बाहर किया धरना प्रदर्शन ,सम्मेद शिखर को पर्यटन स्थल घोषित करने का विरोध, दिया ज्ञापन

PALI SIROHI ONLINE

जालोर-आहोर में पारसनाथ पर्वतराज और मधुवन को बिना जैन समाज की सहमति के इको सेंसिटिव जोन घोषित करने के विरोध में सकल जैन समाज ने पंचायत समिति के बाहर धरना-प्रदर्शन किया। इसके साथ ही राजस्थान के मुख्यमंत्री, झारखण्ड के मुख्यमंत्री और राष्ट्रपति के नाम आहोर एसडीएम शैलेन्द्र सिंह को ज्ञापन सौंपा।

जैन समाज के लोगों ने बताया कि पारसनाथ पर्वतराज और मधुवन को बिना जैन समाज की सहमति के इको सेंसिटिव जोन के अन्तर्गत घोषित किया है। झारखंड सरकार ने जैन तीर्थ की स्वतंत्र पहचान और पवित्रता नष्ट की है। उन्होंने कहा कि यह हमारा शाशवंत जैन तीर्थ है। जहां हमारे 20 तीर्थकर भगवान मोक्ष को प्राप्त हुए हैं, इसलिए ये हमारे लिए पवित्र स्थान है। अधिसूचना का विरोध करते हुए हम सब इसका विरोध दर्ज करवाते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि इसके अलावा हमारे अन्य जैन तीर्थ (पालीतना, गीरनार ) पर भी तोड़फोड़ की जा रही है। जैन संघ ने पर्यावरण मंत्रालय द्वारा जारी अधिसूचना को वापस लेने की मांग की है।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA