जोधपुर की मॉडल को प्यार में मिला धोखा: धोखेबाज को सजा दिलाए बिना जोधपुर नहीं जाऊंगी

PALI SIROHI ONLINE

पाली।मां के मना करने के बाद भी परिवार को छोड़ उसके साथ जीवन बताने की आश में पाली आई। उसके स्टूडियो की सीढ़ियों पर रात गुजारी। लेकिन संभालने तक नहीं आया। उसने मुझसे शादी कि हैं मैं उसकी जिम्मेदारी हूं। लेकिन मुझे यूज कर अब वह अपनाने से इंकार कर रहा हैं। जब तक न्याय नहीं मिलता पाली छोड़कर नहीं जाऊंगी। पढ़ी-लिखी हूं, पाली में नौकरी कर लूंगी, किराए के मकान में रह लूंगी लेकिन मेरी लाइफ बिगाड़ने वाले उसे धोखेबाज सिद्धार्थ को सजा दिलाए बिना जोधपुर नहीं जाऊंगी।

रोते हुए पीड़िता ने बताया कि मां से बात करवाई तो भी सिद्धार्थ ने शादी करने से इंकार कर लिया। मां ने समझाया अब उसे छोड़कर जीवन में आगे बढ़ लेकिन मैं नहीं मानी। • विश्वास था कि सिद्धार्थ से मिलकर उसे समझाऊंगी तो वह मान जाएंगा।

पीड़िता ने बताया कि वह मां से 500 रुपए लेकर 16 जून की देर शाम को जोधपुर से पाली के लिए रवाना हुई बाइपास पर लग्जरी बस ने उतार दिया। यहां से टेक्सी लेकर पुराना बस स्टैंड सिद्धार्थ के स्टूडियो पहुंची। कई बार कॉल क्या लेकिन उसने फोन ही बंद कर दिया। रात उसके स्टूडियो की सीढ़ियों पर गुजारी। नींद आने लगी तो कुछ समय के लिए निकट के नेहरू गार्डन में जाकर सो गई। 17 जून की सुबह उससे मिलना हुआ। उसे समझाया कि शादी कि हैं तुमने मुझसे इसलिए अपना लो लेकिन वह नहीं माना ओर स्टूडियो से निकाल दिया। कोतवाली थाने गई तो औद्योगिक थाने भेजा। वहां गई तो सुनवाई नहीं हुई। रात गुजराने के लिए कोई ठिकाना नहीं था। औद्योगिक थाने में जो ड्यूटी ऑफिसर थे उन्होंने रेलवे स्टेशन भेज दिया, रात वहां रूकी। 18 जून को फिर से औद्योगिक थाने गई लेकिन सुनवाई नहीं हुई महिला थाने जाने को बोला। वहां किसी मामले में कुछ महिलाएं आई हुई थी। उन्होंने सखी सेंटर जाने की सलाह दी। 18 जून को पीड़िता सखी सेंटर पहुंची। सेंटर प्रभारी देवी बामणिया को सारी कहानी बताई। उनकी सूचना पर कोतवाली थाना पुलिस पहुंची आखिर दो दिन के संघर्ष के बाद मामला दर्ज हुआ। शादी का झांसा देकर जिदंगी बर्बाद कर दी, अब कौन करेगा मुझसे शादी शादी का झांसा दिया, मंदिर में माला पहनाकर शादी की। तीन-चार से एक-दूसरे को पहचानते हैं। अब कहता हैं कि दोनों अलग जात के हैं। घरवाले अपनाएंगे नहीं। यह बात उसे संबंध रखने से पहले क्यों नहीं सोची। मेरा जीवन बर्बाद कर दिया। अब कौन मुझसे शादी करेगा। मेरे साथ धोखा करने वाले सिद्धार्थ को उसके गुनाह की सजा दिलाना ही अब लक्ष्य हैं।5 दिन ही रह सकते सखी सेंटर में सखी सेंटर में किसी को पांच दिन ही रखा जा सकता हैं। 18 को पीड़िता सखी सेंटर पहुंची। बुधवार को उसका 5वीं दिन हैं। अभी उसके 164 के बयान भी होने हैं।

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA