बगीचों में आवारा पशुओं का जमावड़ा: जगह-जगह कचरे के ढेर, रेलिंग टूटने से सैलानियों को हो रही परेशानी

PALI SIROHI ONLINE

माउंट आबू।माउंट आबू में गर्मियों की छुट्टियों के साथ ही एक ओर जहां हिल स्टेशन में पर्यटकों की संख्या में निरंतर इजाफा देखा जा रहा है वहीं यहां के बाग बगीचों की हालत देखरेख के अभाव में बिगड़ती चली जा रही है। नक्की झील के मुख्य बगीचों में घांस पूरी तरह सूख चुकी है। जिसमें आवारा पशु उधम चौकड़ी मचाते देखे जा सकते हैं। इन आवारा पशुओं ने बाग-बगीचों में लगे पौधों को और फूलों को पूरी तरह से नष्ट कर दिया है।

राज्यपाल के प्रस्तावित दौरे को लेकर आनन-फानन में जहां सड़कों पर डामरीकरण की प्रक्रिया जारी है वहीं रुड़ीप का गैर-जिम्मेदाराना काम सड़कों को खत्म करता जा रहा है। नक्की झील के इर्द-गिर्द मौजूद दर्जनों बाग-बगीचे कूड़ेदान और कबाड़खाना बन चुके हैं। झील परिक्रमा पर स्थित वन्डर पार्क के बगीचे में अस्पताल का फालतू पड़ा हुआ बोर्ड, कचरे के ढेर, बेतरतीब बैठने की मेजें और टूटी रेलिंग बुरा असर डाल रहीं हैं।

इधर, सूरत से माउंट आबू आए पर्यटक धीरेन शाह ने बताया कि यहां गंदगी और अव्यवस्था बहुत ज्यादा है। नए पर्यटन स्थलों को विकसित करने से बेहतर होगा की पहले से जो हैं उनको ही मेनटेन करने पर जोर दिया जाए।