3 चाबियों से खुलते हैं बद्रीनाथ धाम के कपाट, मान्यता मूर्ति घी से लिपटी मिली तो देश में खुशहाली

PALI SIROHI ONLINE

मनमीत देगरदुं ।उत्तराखंड के चारों धाम में से 3 के कपाट खुल चुके हैं। बाकी बचे भगवान बद्री विशाल के कपाट वैदिक मंत्रोच्चार के साथ 8 मई को खुल गए। आदिगुरु शंकराचार्य ने बद्रीनाथ की प्राण प्रतिष्ठा के बाद कपाट खोलने से लेकर पूजन की जो व्यवस्था बनाई थी, उसका आज तक अक्षरश: पालन हो रहा है।

धाम के धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल ने बताया कि धाम के मुख्य रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी हैं। वे केरल के नंबूदरी ब्राह्मण परिवार से ताल्लुक रखते हैं और आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं। उन्होंने ही शुभ मुहूर्त सुबह 6:15 बजे भगवान बद्रीनाथ के कपाट खोले। उनके अलावा कोई भी भगवान की मूर्ति को स्पर्श नहीं कर सकता है।

मंदिर की 3 चाबियां

बद्रीनाथ धाम तीन चाबियों से खुलता है, ये तीनों चाबियां अलग-अलग लोगों के पास होती हैं। एक चाबी टिहरी राज परिवार के कुल पुरोहित के पास है, जो नौटियाल परिवार से आते हैं। दूसरी बद्रीनाथ धाम के हक हकूक धारी में शामिल मेहता लोगों के पास है। तीसरी हक हकूकधारी भंडारी लोगों के पास होती है। तीनों चाबियों को लगाकर बद्रीनाथ मंदिर के कपाट खोले जाते हैं।

मूर्ति घी में लिपटी मिली तो देश में होगी खुशहाली कपाट खुलने पर सबसे पहले रावल प्रवेश करते हैं। वे गर्भगृह वे में जाते हैं। सबसे पहले भगवान की मूर्ति से घृत कंबल को हटाया जाता है। यह वस्त्र माणा गांव की कुंवारी लड़कियों द्वारा कपाट बंद होते वक्त तैयार किया जाता है। कपाट बंद होते समय ही भगवान की मूर्ति में घी का लेप लगाया जाता है। इसलिए कपाट खोलने के बाद सबसे पहले इसे हटाया जाता है। मान्यता है कि अगर मूर्ति घी में पूरी तरह लिपटी है, तो उस साल देश में खुशहाली रहेगी। घी कम है तो सूखा या अत्यधिक बारिश के हालात रह सकते हैं।

परेशानी: कई दुकानें, होटल हटाए, यात्री क्षमता 7 हजार बची बद्रीनाथ धाम को काशी की तर्ज पर मास्टर प्लान के दायरे में लाया जा रहा है। इसके लिए पहले फेज में 29 दुकानों और होटलों को तोड़ दिया गया। बद्रीनाथ धाम के पुनर्निर्माण के लिए पहले फेज की लागत 230 करोड़ है। इसमें बीआरओ की 1 किमी बाईपास सड़क के साथ 5 अन्य काम किए जाने हैं। ये काम 3 चरण में होना है।

बद्रीनाथ में एक दिन में पहले 12 हजार तक यात्री ठहर सकते

थे। कई होटल टूटने से ये क्षमता घटकर 7 हजार तक ही बची है। ऐसे में आने वाले दिनों में अफरातफरी मच सकती है। होटल और दुकानें तोड़े जाने से कारोबारियों में रोष है।