विधवा माता की पोती के विवाह हेतु लोढ़ा बने देवदुत

PALI SIROHI ONLINE

राव मुकेशपाल सिंह

पिंडवाड़ श्री मति पारु बाई धर्म पत्नी नाथूभाई जाति वाल्मीकि निवासी अजारी के पति व पुत्र की मृत्यु हो जाने के कारण परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण सुपोत्रि रेखा पुत्री शिवा भाई के विवाह को लेकर बहुत परेशान थी। इसी दरम्यान सरस्वती धाम अजारी पधारे राष्ट्र कवि व फिल्म कलाकार शैलेश लोढ़ा को पुजारी मुकेश भाई रावल ने इस विधवा माता की पीड़ा बताई। कवि लोढ़ा ने मानवीय संवेदना दिखाते हुए तुरन्त अपने मित्र रघु भाई माली होटल बाबा रामदेव सिरोही को 51000/- रुपये अर्पण कर वाल्मीकि परिवार की गरीब बेटी के विवाह हेतु सहायता करवाई। श्री रघु भाई होटल बाबा रामदेव सिरोही ने इक्यावन हजार शैलेश जी तरफ से भेट किये साथ ही परिवार की दयनीय स्थिति देखकर अपनी और से भी 11000/- रुपये भेट कर मानवता क परिचय दिया। मोहन लाल डांगी ने भी 1100/- रुपये वाल्मीकि परिवार को भेट किये। इस अवसर पर पुजारी मुकेश भाई रावल, नरेश भाई रावल, दिनेश भाई रावल सीताराम रावल व महेंद्र भाई रावल उपस्थित रहे और शैलेश जी लोढ़ा व रघुभाई माली का हृदय से धन्यवाद किया। मारकंडेश्वर मंदिर मे सफाई कार्य करने वाली पारु बाई ने भामाशाहो को दुआएं दी।