मंडप में बैठा रहा दुल्हा, दुल्हन चचेरे भाई संग फरार

PALI SIROHI ONLINE

मंडप में बैठा रहा दुल्हा, दुल्हन चचेरे भाई संग फरार

भरतपुर/सीकरी. पुलिस के सामने उस वक्त बड़ी मुसीबत खड़ी हो गई, जब दुल्हा बाहर मंडप बैठा हुआ था और दुल्हन उसी समय चचेरे भाई को साथ लेकर फरार हो गई। जहां शादी होनी थी, वहां हंगामा हो गया। वर व वधु पक्ष के बीच झगड़ा होने की स्थिति आ गई। वर पक्ष ने शादी से ही इंकार कर दिया। काफी देर तक तलाश के बाद भी दुल्हन नहीं मिली तो स्थानीय पुलिस को सूचना दी गई।

हालांकि प्रकरण के संबंध में वर व वधु पक्ष ने थाने में कोई रिपोर्ट नहीं दी। करीब छह घंटे की मशक्कत के बाद पुलिस ने दुल्हन को दस्तयाब कर उसके चचेरे भाई को भी पकड़ लिया। इसके बाद काफी देर तक समझाइश की गई, तब जाकर दुल्हा-दुल्हन शादी के लिए तैयार हुए।
हुआ यूं कि थाने के एक गांव में एक व्यक्ति ने अपनी दो पुत्रियों की शादी मंगलवार को अक्षय तृतीया पर करना तय किया। हरियाणा के एक गांव से बारात भी आ गई, लेकिन बड़ी लड़की शादी नहीं करना चाहती थी। इसलिये बारात आने से पहले ही सुबह करीब साढ़े आठ बजे अपने चचेरे भाई के साथ फरार हो गई। लड़की के भाग जाने के बाद घर का माहौल बिगड़ गया। लड़की के परिजन तथा ग्रामीण लड़की को तलाश करने लगे। काफी तलाश के बाद जब लड़की नहीं मिली तो लड़की के पिता ने पुत्री के गुम हो जाने की शिकायत पुलिस से की। इस पर पुलिस ने दिनभर छानबीन के बाद लड़की को यूपी के मथुरा क्षेत्र से दस्तयाब कर लिया तथा लड़की के चचेरे भाई को भी पकड़ लिया।

उसके बाद पुलिस व परिजनों ने लड़की से समझाइश की तो वह शादी के लिए राजी हो गई। उधर, दिनभर इंतजार के बाद दूल्हे ने अपना मन बदल लिया और लड़की से शादी करने से इनकार कर दिया। जैसे तैसे दूल्हे को शादी के लिए राजी किया तो दोनों की शादी हुई।

वीडियो देखे

खुद पत्नी ने दी सूचना, तब पकड़ चचेरा भाई
इस पूरे घटनाक्रम में रोचक बात यह रही कि जो चचेरा भाई बहन को लेकर फरार हुआ था, उसकी पत्नी ने ही परिजनों को इसके बारे में बताया। हालांकि बताया जा रहा है कि लड़की शादी करना नहीं चाहती थी, इसलिए उसने चचेरे भाई को ही यहां से कहीं और जाने के लिए मनाया था। ताकि उसकी शादी नहीं हो सके।
आना नहीं चाहती थी लड़की
सूत्रों ने बताया कि पुलिस जब उत्तरप्रदेश के वृंदावन स्थित उस गेस्ट हाउस में पहुंची, जहां दुल्हन व उसका चचेरे भाई रुके हुए थे तो लड़की ने पहले तो पुलिस के साथ जाने का विरोध किया। महिला कांस्टेबल ने जबरन उसे गाड़ी में बैठाया। लड़की शादी ही नहीं करना चाह रही थी। पुलिस ने परिवार टूटने की आशंका के चलते करीब दो घंटे तक युवती को समझाया और लोक लाज के बारे में समझाया। तब जाकर युवती शादी के लिए मान गई।