जिले में उद्यानिकी गतिविधियों की समस्त श्रेणी के कृषक अनुदान के लिए राज किसान पोर्टल पर 15 मई तक ऑनलाईन आवेदन कर पंजीयन करवा सकते है

PALI SIROHI ONLINE

पाली, 04 मई। पाली जिले में उद्यानिकी गतिविधियों की समस्त श्रेणी के कृषक सामान्य, अनुजाति एवं अनु जनजाति के कृषकों को वित्तिय वर्ष 2022-23 में अनुदान के लिए राज किसान पोर्टल पर 15 मई तक ऑनलाईन आवेदन कर पंजीयन करवा सकते है।

सहायक निदेशक उद्यान श्री रामावतार ने बताया कि उद्यान विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं यथा ग्रीन हाउस, पॉली हाउस, शेडनेट हाउस, प्लास्टिक लॉ टनल्स, वर्मी कम्पोस्ट ईकाई, अधिक मूल्य वाली सब्जियां व नवीन बगीचा स्थापना एवं इत्यादि ई-मित्र पर राज किसान पोर्टल पर 15 मई 2022 तक ऑनलाईन आवेदन कर पंजीकरण करवा सकते है। पंजीकरण कराने वाले कृषकों को वर्ष 2022-23 में उद्यानिकी गतिविधियों में जिले को प्राप्त लक्ष्यों का डेढ गुणा अधिक (150 प्रतिशत) आवेदन प्राप्त होने पर लाभान्वित किये जाने के लिए जिला स्तर पर जिला कलक्टर की अध्यक्षता में गठित कमेटी द्वारा लॉटरी के माध्यम से चयन किया जायेगा।
उन्होंने बताया कि जिन कृषकों ने 01 सितम्बर 2021 से पूर्व उद्यानिकी गतिविधियों में अनुदान हेतु आवेदन किया है वे कृषक राज किसान पोर्टल, ई-मित्र पर पुनः आवेदन करे। एक सितम्बर 2021 से 15 मई 2022 तक के समस्त आवेदनों को वरीयता में शामिल किया जावेगा।
प्रधानमंत्री किसान सौर ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (पी.एम. कुसुम )
प्रधानमंत्री किसान सौर ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान के तहत सौर ऊर्जा पम्प संयंत्र स्थापना के लिए जिले के जिन कृषकों ने पूर्व में ई-मित्र पर आवेदन किये थें तथा उनकी प्रशासनिक स्वीकृति जारी नहीं हुई है उन कृषकों को राज किसान साथी पोर्टल पर पुनः आवेदन करना होगा।

ऐसे कृषक जिन्होंने पूर्व में किये गये आवेदन का टोकन नम्बर की सूचना राज किसान साथी पोर्टल पर आवेदन करते समय दर्ज करना होगा ताकि उनके आवेदन के वरीयता ई-मित्र की आवेदन की वरीयता अनुसार सुरक्षित रह सके। नवीन आवेदक अपना आवेदन राजकिसान साथी पोर्टल पर ऑनलाईन करना होगा।

आवेदन करने वाले कृषक को सूचित किया जाता है कि इस कार्यालय के द्वारा प्रशासनिक स्वीकृति जारी करने के पश्चात् कार्यालय से सम्पर्क करके कृषक हिस्सा राशि का ड्राफ्ट बनाकर कार्यालय पर जमा करवाकर प्राप्ति रसीद प्राप्त करें। बिना प्रशासनिक स्वीकृति के ड्राफ्ट बनाकर किसी अन्य को जमा करायेगा उसके लिए कृषक स्वयं जिम्मेदार होगा।