लूट-हत्या के दोषियों को उम्रकैद: मारपीट कर गहने लूट ले गए थे बदमाश, उपचार के दौरान वृद्ध की हुई थी मौत

PALI SIROHI ONLINE

पाली।हत्या एवं लूट के करीब सात साल पुराने एक मामले में अपर जिला सेशन न्यायाधीश डॉ मनीषा चौधरी ने दो अभियुक्तों को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई। अपर लोक अभियोजक प्रेमसिंह राठौड़ ने बताया कि गुड़ा एदला थाने में खरोखड़ा गांव निवासी कस्तुदेवी पत्नी मानाराम सीरवी ने रिपोर्ट दी।

इसमें बताया कि 4 अक्टूबर 2014 की रात करीब एक बजे कुछ लोग घर में घुसे तथा उनके ससुर पेमाराम सीरवी से बंदकू के बट व बेसबॉल से मारने लगे। उनके चिल्लाने की आवाज सुन उनकी भांजी उठी। बदमाशों ने उसके साथ भी मारपीट की तथा धमकी दी कि घर में रखे गहने व नकदी लाकर दे दो नहीं तो जान से मार देंगे।

डर के मारे घर में रखे एक लाख 20 हजार व सोने की कंठी उन्हें दे दी तो वे दीवार फांद भाग गए। रिपोर्ट में बताया कि 12 अक्टूबर 2014 को जोधपुर के मथुरादास माथुर हॉस्पिटल में उपचार के दौरान उनके ससुर पेमाराम सीरवी की मौत हो गई। पुलिस ने लूट व हत्या की धारा में मामला दर्जकर बदमाशों को दस्तयाब कर न्यायालय में पेश किया जहां से उन्हें न्यायिक अभिरक्षा में भेजा गया। मामले में 30 अप्रैल को सुनवाई करते हुए अपर जिला एवं सेशन न्यायाधीश डॉ मनीषा चौधरी ने मंडली गांव निवासी अभियुक्त गणपतलाल पुत्र भीखाराम सीरवी व पाली के सोसायटी नगर निवासी सुनिल उर्फ पिन्टू पुत्र हिम्मताराम को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई।