बर-कैंसर पीड़ित पिता को पहुंचाई नौ लाख पचास हजार की आर्थिक सहायता,ख़ुशी से झलके पीड़ित के आँसू

PALI SIROHI ONLINE

कैंसर पीड़ित पिता को पहुंचाई नौ लाख पचास हजार की आर्थिक सहायता

  • दो वर्ष पहले मिक्सर प्लान में बर के युवक की मौत के बाद समाजसेवी एडवोकेट मुर्तजा कुरेशी ने निशुल्क मुकदमा लड़कर क्लेम बीमा के रूप में साढ़े नौ लाख की पहुंचाई आर्थिक सहायता
  • मानवता आज के दौर में भी जिंदा है

पाली/बर मारवाड़ . करीब दो वर्ष पूर्व बर-बनाड़ फोरलेन निर्माण एलएंडटी कंपनी बिराटियां खुर्द रोड़ स्थित मिक्सर प्लांट पर मिक्सर डंपर की चपेट में आने से अनिल कुमार पुत्र नरसिंग मेघवाल (20) की दर्दनाक हादसे में अकाल मौत हो गई थी। उस समय गांव सहित जवान पुत्र की मौत के बाद नरसिंह मेघवाल के घर में मातम सा छा गया। गांव वालों के प्रयास से ग्रामीणों ने तत्काल आर्थिक सहायता के रूप में चार लाख पच्चास हजार की सहायता पहुंचा कर मानवता की मिसाल कायम की। इस दौरान बर के समाजसेवी एडवोकेट मुर्तजा कुरैशी ने मृतक अनिल कुमार मेघवाल का क्लेम बीमा मे लिये नि:शुल्क रूप से मुकद्दमा लड़ने व मृतक को न्याय दिलाने का संकल्प लिया। कुरेशी के प्रयास से मंगलवार को क्लेम बिल के रूप में अनिल कुमार के पिता नरसिंह मेघवाल को नौ लाख पचास हजार की आर्थिक सहायता राशि प्रदान की गई। समाजसेवी एडवोकेट मुर्तजा कुरैशी के सराहनीय प्रयास के लिए गांव के ग्रामीणों ने धन्यवाद अर्पित किया।

आर्थिक सहायता पाकर कैंसर पिता के छलक पड़े आंसू…

जोधपुर रोड स्थित न्यायालय परिसर के सामने एडवोकेट मुर्तजा कुरेशी के दफ्तर पर अनिल कुमार के पिता नरसिंह मेघवाल के हाथों में आर्थिक सहायता के रूप में क्लेम चेक प्रदान किया, उस समय नरसिंह मेघवाल की आंखों से आंसू छलक पड़े बेटे की याद में गमगीन पिता ने एडवोकेट मुर्तजा कुरैशी को धन्यवाद देते हुए गले लगा कर बिलख पड़े। वहां मौजूद उनकी पत्नी फूली देवी, बड़ा पुत्र करण मेघवाल, अधिवक्ता सुरेंद्र सैनी,मुकेश गुर्जर,राजेन्द्र मेघवाल व प्रहलाद सैनी ने परिजनों को ढांढस बंधवाया।

पिता को कैंसर, इसलिए कर रहा था अनिल मेहनत…

कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से जूझ रहे अपने पिता के उपचार में सहयोग करने के लिए 20 साल के अनिल ने पढ़ाई छोड़ कर मजदूरी करना शुरू कर दिया। अनिल के दो बड़े भाई और है इनमें से एक ऑटो चलाता है व दूसरा मजदूरी करता है। पिता के उपचार और घर खर्च में आर्थिक सहयोग करने की इच्छा से अनिल ने 1 साल पहले ही इस प्लांट पर मजदूरी शुरू की थी। मृतक के बड़े भाई करण के अनुसार उम्र में छोटा होने के बावजूद अनिल समझदार और जिम्मेदारी उठाने वाला था।

ग्रामीणों ने भी उस आगे आकर की थी आर्थिक मदद..

एलएंडटी कंपनी द्वारा 11 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा के साथ ही बर के ग्रामीणों ने भी मृतक अनिल के परिजनों को चार लाख 51 हजार रुपए की आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई। उस समय अस्पताल में मौजूद कानसिंह इंदा, रणजीतसिंह, मुर्तुजा कुरैशी, सुरेश कुमार, रोशन मेवाड़ा, जसवंतसिंह और त्रिलोक सहित 26 लोगों ने मिलकर यह राशि मृतक के परिजनों को सौंपी।