युवक की मौत पर दोस्तों का हंगामा:पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की

PALI SIROHI ONLINE

उदयपुर के न्यू आरटीओ ऑफिस रोड पर शनिवार देर रात हुई एक युवक की मौत को संदिग्ध बताते हुए दोस्तों ने हंगामा किया। पहले गीतांजलि हॉस्पिटल फिर कलेक्ट्रेट पर नारेबाजी कर मामले की निष्पक्ष जांच की मांग की। युवाओं का यह हंगामा शाम को एमबी हॉस्पिटल जाकर शांत हुआ। समझाइश के बाद पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सुपुर्द किया गया। जिसके बाद परिजन बाड़मेर के लिए रवाना हो गए।

दरअसल, बाड़मेर के सिवाना निवासी गोपाल सिंह (27) उदयपुर में एज्युकेशन कंसल्टेंसी का ऑफिस चलाता था। शनिवार रात गोपाल ने अपने साथियों के भुवाणा में एक रेस्टोरेंट में पार्टी की। इसके बाद न्यू आरटीओं ऑफिस रोड पर हादसे में वह गंभीर घायल हो गया। हादसे के बाद उसने परिवार को फोन कर जानकारी दी। इस पर स्थानीय रिश्तेदारों और दूसरे दोस्तों ने गोपाल को गीतांजलि हॉस्पिटल पहुंचाया, जहां उसने दम तोड़ दिया।

मौत के बाद रिश्तेदारों और दोस्तों ने पता किया तो वो देर रात तक कैलाश चौधरी और मोहित कुमार नामक युवकों के साथ था। कैलाश से इस बारे में पूछने पर वो गोलमोल जवाब देता रहा। परिजनों ने कैलाश और उसके साथियों पर हत्या का अंदेशा जताते हुए हंगामा कर दिया। दर्जनों युवा शव लेकर एम्बुलेंस से कलेक्ट्रेट के बाहर पहुंच गए और सुखेर पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। हालांकि इस दौरान पुलिस ने समझाइश कर शव को एमबी अस्पताल की मोर्चरी भिजवाया। नारेबाजी कर रहे युवाओं ने कैलाश और उसके साथियों के छिपे रहने के पीछे हत्या का अंदेश जताकर उन्हें पकड़ने की मांग की।

मोर्चरी के बाहर भी हत्या की आशंका जताते हुए नारेबाजी हुई। हंगामे की सूचना पर डीएसपी महेंद्र पारीक, हाथीपोल थानाधिकारी आदर्श परिहार और सुखेर थानाधिकारी मुकेश सोनी मौके पर पहुंचे। पुलिस अधिकारियों ने करीब 1 घंटे तक समझाइश कर मामला शांत करवाया। इसके बाद परिजनों ने शव का पोस्टमार्टम करवाया और बाड़मेर के लिए रवाना हुए

पाली सिरोही ऑनलाइन के सोशियल मीडिया हैंडल से जुड़ें…

ट्विटर
twitter.com/SirohiPali

फेसबुक
facebook.com/palisirohionline

यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें
https://youtube.com/channel/UCmEkwZWH02wdX-2BOBOFDnA