भीमाना और रामपुरा में आयोजित विश्व आदिवासी दिवस कार्यक्रम में पहुचे बड़ी सख्या में आदिवासी

PALI SIROHI ONLINE

मना राम चौधरी बाली

भीमाना और रामपुरा में आयोजित विश्व आदिवासी दिवस कार्यक्रम में पहुचे बड़ी सख्या में आदिवासी

विभिन्न आदिवासी संस्कृति की दी पस्तुती

बाली। भीमाना और रामपुरा गांव में विश्व आदिवासी दिवस भीमाना विघालय में प्रधान पानरी देवी गरासिया,भीमाना सरपंच गुजरी देवी गरासिया,उपला भिमाना सरपंच रिंकु देवी गरासिया,ठण्डी बेरी सरपंच रिंकु केसाराम गरासिया,कुंडाल सरपंच मिरिदेवी ,पिंटू गरासिया,काकराड़ी सरपंच राजाराम गरासिया,बेरडी सरपंच प्रतिनिधि भगवती लाल मीणा,भवरी देवी क़ुरन,मन्जू देवी पीपला,और समाज सेवक अशोक पाल सिंह मीणा मालनु के मुख़्य आतिथ्य में हर्षोल्लास से मनाया गया। तो रामपुरा गाँव में
रामपुरा सरपंच कैलाश गरासिया,आमलिया सरपंच प्रतिनिधि रतन मीणा, नाडिया सरपंच मदन गरासिया, कुमटिया सरपंच कुसाराम गरासिया,समिति सदस्य सगीता गरासिया,और मालनु सरपंच रमेश मीणा की अध्यक्ष्ता में मनाया गया।

दोनों ही जगह आदिवासी संस्कृति से जुड़ा सांस्कृतिक समारोह आयोजित किया गया। जिसमें महिला पुरुषों ने लोकगीत व नृत्य से आदिवासी संस्कृति की झलक का साकार किया।

विभिन्न पहाड़ी क्षेत्र के आदिवासी ग्रुप झिरी की प्रस्तुति के दौरान बाली पूर्व प्रधान सामताराम गरासिया, दीपाराम गरासिया, रामपुरा सरपंच कैलाश गरासिया और आमलिया के रतनलाल मीणा,नाड़ीया सरपंच मदन लाल गरासिया,कुमटिया सरपंच कुसा राम गरासिया,ठंडी बेरी सरपंच केसाराम गरासिया,गोरिया मांगीलाल गरासिया भी खुद को रोक नहीं सके। उन्होंने आदिवासी ग्रुप में शामिल होकर नृत्य किया। तो पूर्व प्रधान सामंता राम गरासिया ने तीर कमान तो कैलाश गरासिया और रतन मीणा आमलिया ने तलवार के साथ नृत्य किया।

इस दौरान भीमाना में बाली प्रधान पानरी देवी गरासिया,भिमाना सरपंच गुजरी देवी गरासिया,सरपंच सीमा गरासिया और रिंकु गरासिया ठण्डी बेरी सरपंच और रामपुरा में समिति सदस्य सगीता गरासिया और कनी बाई भी उत्सवर्धन करने के लिए मंच से उतरे और इस दोरान अन्य कई लोग भी इसमें शामिल हो गए।

प्रतिवर्ष होने वाले इस कार्यक्रम में पहली बार अनुपस्तिथ रहे भन्दर पूर्व सरपंच दिनेश मीणा की कमी सभी अतितियो के मुख से सूनी गई।

भीमाना के समारोह में पूर्व प्रधान सामंता राम गरासिया और सरपंच प्रतिनिधि दीपाराम गरासिया ठंडी बेरी केसाराम गरासिया और रामपुरा में सरपंच कैलाश गरासिया और रतन मीणा आमलिया,नाडिया मदन गरासिया, ने कहा कि यह दिन हम सभी के लिए गौरवमयी है। उन्होंने शिक्षा के महत्व को बताते हुए बच्चों को स्कूल से जोडऩे का आह्वान किया और कहा कि आदिवासी संस्कृति को जीवित रखना हम सभी का धर्म है। रतनलाल मीणा आमलिया ने कहा सरकार को ऐसे कदम उठाने की जरूरत है जिससे सीधा लाभ प्रत्येक परिवार को मिले। इस दौरान अतिथियों ने खेल, शिक्षा, कला आदि क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाली प्रतिभाओं को सम्मानित किया।

अशोक पाल सिंह मीणा मालनु ने कहा कि अन्र्तराष्ट्रीय आदिवासी दिवस सिर्फ उत्सव मनाने के लिए नही बल्कि अपने अस्तित्व, संघर्ष, हक, अधिकारों एवं इतिहास को याद करने के साथ-साथ अपनी जिम्मेदारियों एवं कत्र्तव्यों की समीक्षा करने का दिन है।

इस दौरान प्रधान पानरी देवी गरासिया ,पूर्व प्रधान सामंता राम गरासिया,भिमाना सरपंच गुजरी देवी गरासिया, दीपाराम गरासिया,रामपुरा सरपंच कैलाश गरासिया,आमलिया रतन मीणा,मालनु सरपंच रमेश मीणा,सीमा कुमारी गरासिया, ग्राम विकास अधिकारी रतन गाडरी,मिश्री लाल,रिंकू देवी केसाराम गरासिया, तेरी बाई गरासिया,सगीता गरासिया समिति सदस्य,कुंडाल ,मिरी देवी, सरपंच नाडिया मदन लाल गरासिया, राजाराम सरपंच काकराडी, पिंटू गरासिया कुंडाल प्यारी देवी बेरडी, भंवरी देवी कुरन, मंजू देवी पीपला, मांगीलाल गरासिया सरपंच गोरिया,कुमटिया सरपंच कुसाराम गरासिया,हंसाराम मोरी,पुनाराम रोटिया,सोनाराम,जेठू सिंह,कालाराम,माधोसिंह,नुराराम,मानाराम गमेती पूर्व वार्डपंच, कालाराम पटेल गमेती,हकमाराम,भरत,विक्रम सिंह,उप सरपंच धुपाराम,तेजाराम,वेलाराम,बनाराम,सवाराम,किसन नाडिया,सुनाराम भिमाना,सवाराम,मोहनलाल,केसाराम,भी मोजूद रहे।