पाली_सांडेराव पुलिस पर मारपीट का आरोप,बच्चे बोले एसपी साहब हमारा क्या होगा

PALI SIROHI ONLINE

सांडेराव थाने में गत दिनों एक विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितयों में मौत हो गई थी। मृतका पिछले करीब तीन वर्ष से अपने पति से अलग रह रही थी। मामले में मृतका के पीहर पक्ष के लोगों ने उसके पति पर शक जाहिर किया था। जिस पर पुलिस ने उसे पूछताछ के लिए थाने ले गई। मामले में मृतका के ससुराल पक्ष के लोगों का आरोप हैं कि थाने में रमेश जोशी के साथ सांडेराव पुलिस ने बेरहमी से मारपीट की। जिससे उसकी बॉडी पर जगह-जगह लील जम गई।

पुलिस पर मारपीट का आरोप लगाने वाला रमेश जोशी

एसपी से शिकायत की जब उन्हें छोड़ा गया। पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंप उन्होंने कार्रवाई की मांग की थी।

सांडेराव के घांचियों का चौहटा क्षेत्र निवासी रमेश पुत्र कांतिलाल जोशी का 20 अप्रेल 2004 को कुचामन सिटी निवासी पूजा उर्फ पुष्पा से शादी हुई थी। शादी के बाद संगीता, धीरज व हेमंत संतान हुई। अगस्त 2019 में रमेश की पत्नी पूजा एक युवक के साथ भाग गई थी। तथा बाद में वापस आकर उगम नगर कॉलोनी दो में उनके मकान में आकर रहने लगी। जिस पर रमेश अपने बच्चों व मां के साथ घांचियों का चौहटा क्षेत्र में मकान में रहने लगा।

रमेश के बच्चे जिन्होंने एसपी से न्याय की गुहार लगाई

ज्ञापन में उन्होंने बताया कि पिछले करीब तीन साल से दोनों पति-पत्नी अलग रह रहे हैं। 24 जुलाई को पुलिस की संदिग्ध परिस्थितयों में मौत हो गई थी। मामले में पुलिस मृतका के पीहर पक्ष के लोगों ने मृतका के पति रमेश जोशी पर शक जाहिर किया था। जिस पर पुलिस उसे पूछताछ के लिए थाने ले गई थी।

मारपीट से हाथ पर जमी लील दिखाते हुए

पैर पर मारपीट से जमी लील दिखाते हुए। पीड़ित का आरोप
मामले में रमेश जोशी के बच्चों व परिजनों का आरोप हैं कि सांडेराव पुलिस उसे जब मर्जी होती हैं पूछताछ के बहाने थाने बुला लेते हैं तथा घंटों बिठाते हैं। रमेश बीपी, शुगर का मरीज हैं। फिर भी उसके साथ इतनी मारपीट की कि हाथ पैरों पर लील जम गई।

मामले को लेकर शुक्रवार को रमेश के परिजन पाली एसपी से मिले तथा गुहार लगाई। जिस पर पुलिस ने रमेश को छोड़ा। उन्होंने आरोप लगाया कि मारपीट कर पुलिस रमेश से जबरदस्ती जुल्म कबूल करवाना चाहती हैं।

पैर पर मारपीट से जमीन लील दिखाते हुए

शनिवार को परिजन पुलिस की मारपीट से घायल हुए रमेश को लेकर पाली पहुंचे लेकिन एसपी से मुलाकात नहीं हो सकी।

मामले में सांडेराव थानाप्रभारी सरजिल मलिक ने बताया कि बॉडी सबसे पहले रमेश ने देखी लेकिन थाने में सूचना नहीं दी। रमेश के साले ने मेड़ता सिटी से आने के बाद सूचना दी। रमेश व उसके भाई ने मृतका के अशलील फोटो वायरल किए। इसकी शिकायत मृतका के भाई पिन्टू प्रकाश ने दी। जिस पर रमेश व उसके भाई को पूछताछ के लिए थाने बुलाया। मारपीट जैसे कोई बात नहीं हैं। कार्रवाई से बचने के लिए रमेश व उसके परिवार के लोग ऐसा कर रहे हैं।