प्रदेश में यहा हुई मूसलाधार बारिश, नदियां उफनने से मार्ग हुए बाधित

PALI SIROHI ONLINE

जयपुर।प्रतापगढ़ जिले में गत चार दिनों से लगातार हो रही बारिश के बाद कई बांधों में पानी की आवक बढ़ने लगी है। पीपलखूंट में 6 इंच और अरनोद में पांच इंच बारिश दर्ज की गई। जिससे कई नदियां उफान पर है। जिले की प्रमुख शिवना नदी भी उफान पर है। ऐसे में कई जगहों पर मार्ग बंद हो गए है। वहीं बारिश का दौर लगातार जारी है।

जिले में गत दिनों से मूसलाधार बारिश का दौर सोमवार को भी जारी रहा।दिनभर बारिश का दौर कभी तेज तो कभी रिमझिम के साथ चलता रहा।

गत दिनों से लगातार बारिश के बाद नदी-नालों में पानी की आवक बढऩे लगी है। इससे कई स्थानों पर पुलिया से पानी छूकर निकला है। क्षेत्र की प्रमुख शिवना नदी भी पूरे वेग से बह रही है। कई स्थानों पर उफान पर भी नदी रहने से आवागमन बाधित रहा। जिले में छोटे-बड़े एनिकट भी लबालब होने लगे है।

इसके साथ ही कई खेतों में फसलें जलमग्न हो गई है। ऐसे में फसल खराब होने की आशंका भी बनी हुई है।जिले में बारिश का आंकड़ा तहसील बारिश प्रतापगढ़ 120 अरनोद 141 छोटीसादड़ी 47 धरियावद 57 पीपलखूंट 133 (आंकड़े सोमवार सुबह 8 बजे तक पिछले 24 घंटों के, जल संसाधन विभाग के अनुसार एमएम में)इमली का पेड़ गिरने से कार दबी अरनोद क्षेत्र में पिछले 4 दिनों से बारिश का दौर लगातार जारी है। जिसके चलते क्षेत्र के आसपास के सभी नदी नाले उफान पर हैं।

कस्बे के चक्की वाले हनुमान मंदिर के पास नाले में पानी की आवक ज्यादा होने से वर्षों पुराना इमली का एक बड़ा पेड़ गिर गया। जिससे एक कार दब गई और रास्ता पूरी तरह बंद हो गया। इमली के पेड़ के गिरने से वहां से गुजर रहे पोल की वायरिंग भी टूट गई। गनीमत रही इस दौरान वहां कोई मौजूद नहीं था।सालमगढ़ के निकटवर्ती गांव भैंसों के नाल गांव में बारिश की वजह से केलूपोश मकान गिर गया। आंबीरामा में बहादुरलाल पुत्र देवा जी का मकान रात में गिर गया।

हालांकि इस दौरान घर में खाद्यान्न सामग्री मकान में दब गई। तीनों बच्चे अपनी जान बचाकर भाग निकले अन्यथा नीचे दब जाते। गेहूं एवं अन्य सामग्री भी गीली हो गई। कई आवश्यक दस्तावेज भी नहीं निकाल पाए। मकान गिरने से उसका आशियाना भी नहीं रहा है। नंदलाल मकवाणा ने प्रशासन से मांग की है कि पीडि़त परिवार को सरकार जल्द से जल्द राहत दिलाए।

वरमंडल-प्रतापगढ़ मार्ग बंद मोखमपुरा क्षेत्र में हो रही बारिश से चारों तरफ जलमग्न हो गया है। लगातार बारिश के चलते कहीं जगह आवागमन पूर्ण रूप से बंद रहा। वरमंडल में लगातार हो रही बारिश के चलते 3 घंटे तक मार्ग पूरी तरह से बाधित रहा। जिसके चलते वरमंडल के निवासियों को 3 घंटे तक बारिश के पानी का पुलिया से नीचे उतरने का इंतजार करना पड़ा।वहीं लगातार जिले में हो रही बारिश के चलते प्रतापगढ़ वरमंडल मार्ग व वरमंडल से डाबड़ा, कल्याणपुरा, मोखमपुरा, घोटारसी, मगरोड़ा जाने वाला मार्ग भी 2 घंटे से ज्यादा आवागमन पूर्ण रुप से बंद रहा। कई लोगों को अपनी जान जोखिम में डालकर दो पहिया व चार पहिया वाहन निकालते हुए देखे गए।गांव के हरिओम सेन ने बताया कि वरमंडल गांव में 3 साल पहले का रिकॉर्ड आज तोड़ता हुआ दिखाई दिया। जिससे गांव में चारों ओर पानी ही पानी दिखाई दिया वही हर कोई इस वीडियो को अपने कैमरे में कैद करता हुआ दिखाई दिया हरिओम सेन ने बताया।लगातार बरसात से फसलें हुई जलमग्न खेरोट क्षेत्र में लगातार हो रही बरसात के चलते नदी-नाले उफान पर बहने लगे है। कई खेतों में फसले जलमग्न हो रही है। किसानों का कहना है कि लगातार हो रही बरसात से सोयाबीन की फसलों में इल्ली का प्रकोप शुरू हो जाएगा। जिससे काफी नुकसान हो सकता है।