पाली जिला कलक्टर अंश दीप ने कहा कि जिलेवासियों के स्वास्थ्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए बेहतरीन प्रबंधन से कोरोना की जंग जीतना चाहते है

PALI SIROHI ONLINE

पाली जिला कलक्टर अंश दीप ने कहा कि जिलेवासियों के स्वास्थ्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए सरकार एक ओर जहां बेहतरीन प्रबंधन से कोरोना की जंग जीतना चाहती है वहीं दूसरी ओर ‘मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा’ जैसी महत्वाकांक्षी योजना भी शुरू कर रही है। यह योजना लोगों को इलाज के भारी-भरकम खर्च और चिंताओं से मुक्त करेगी। उन्होंने कहा कि जिले के लोगों के दुख-दर्द दूर करने और समग्र विकास को ध्यान में रखकर बजट घोषणाओं को तेजी से पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है।


जिला कलक्टर ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर के कारण तेजी से बढ़ता संक्रमण हमारे लिए बड़ी चिंता का विषय बन गया है। सरकार व जिला प्रशासन इस पर नियंत्रण के लिए लगातार कड़े फैसले ले रहा है। इसके बावजूद कोविड अनुशासन की पालना में यदि लापरवाही होगी, तो जिला प्रशासन को और भी सख्त कदम उठाने को मजबूर होना पड़ेगा।
जिला कलक्टर ने कहा कि इस बार संक्रमण का खतरा गांवों में भी दिखाई दे रहा है। कोरोना का यह बदला हुआ मिजाज पहले से भी अधिक घातक एवं खतरनाक है। इसे रोकने के लिए हम सभी को एक बार फिर पहले की तरह ही दो गज की दूरी रखने, मास्क पहनने जैसे प्रोटोकॉल की पालना सुनिश्चित करनी होगी। इसमें जनप्रतिनिधियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं, धर्म गुरूओं सहित सभी वर्गों का सहयोग आवश्यक है।


उन्होंने बताया कि जिले के हर परिवार को इलाज खर्च की चिंताओं से मुक्त करने के लिए ‘मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना’ लाई गई है। ऐसी योजना लाने वाला राजस्थान देश का पहला राज्य है। इस योजना में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा, सामाजिक-आर्थिक जनगणना-2011, लघु एवं सीमांत किसान तथा संविदाकर्मियों के लिए 5 लाख रूपए तक के कैशलेस बीमा का प्रीमियम सरकार वहन करेगी। अब राज्य सरकार ने गत वर्ष कोविड-19 अनुग्रह राशि प्राप्त करने वाले निराश्रित एवं असहाय परिवारों को भी इस श्रेणी में शामिल किया है। उनके सम्पूर्ण प्रीमियम का भार भी राज्य सरकार ही वहन करेगी। साथ ही, अन्य परिवार मात्र 850 रूपए प्रीमियम जमा करवाकर इस योजना से जुड़ सकते हैं।
उन्होंने बताया कि कोई भी परिवार इस योजना के लाभ से वंचित न रहे इस उद्देश्य से सरकार ने पंजीयन के लिए एक व्यापक अभियान शुरू किया है, जिसके तहत शहरों एवं गांव-ढाणी तक विशेष पंजीयन शिविर लगाए जा रहे हैं। एक मई से लागू होने वाली इस योजना में रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करने, प्रीमियम जमा करने तथा प्रिटिंग के लिए ई-मित्र को कोई शुल्क देने की आवश्यकता नहीं होगी। यह शुल्क राज्य सरकार वहन करेगी। पंच-सरपंच, पार्षद, विधायक, सांसद सहित सभी जनप्रतिनिधि तथा बीएलओ, ग्राम विकास अधिकारी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, आशा सहयोगिनी, एएनएम सहित ग्राम स्तर तक के सभी कार्मिक लोगों को इस योजना का लाभ लेने के लिए प्रेरित करें। आमजन इस योजना से जुडे अस्पतालों में कैशलेस इलाज की सुविधा प्राप्त कर सकेंगे। भर्ती होने से 5 दिन पहले तथा डिस्चार्ज होने के 15 दिन बाद तक का चिकित्सा खर्च इसमें कवर होगा।
जिला कलक्टर ने कहा कि कोरोना काल में आमजन अपने स्वास्थ्य को लेकर जागरूक हुआ है। जिस तरह लोगों ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम में पहले सहयोग दिया है, उसी तरह आगे भी पूरी सजगता और सतर्कता के साथ अपना योगदान दें।


उन्होंने कहा कि समाज के सभी प्रबुद्धजन मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना मेें पंजीयन के लिए लोगों को प्रेरित करें। लोगों में इस योजना से जुड़ने के लिए एक उत्साह का माहौल है। ‘कोई भी परिवार पंजीयन से न छूटे‘ इस उद्देश्य से सभी जनप्रतिनिधि, अधिकारी एवं कर्मचारी अपनी भूमिका निभाएं। उन्होंने कहा कि ग्राम सभाओं, पंचायत समिति, नगर पालिकाओं और जिला परिषद की बैठकों के माध्यम से भी इस योजना का लाभ लोगों तक पहुंचे। यूनिवर्सल हैल्थ कवरेज की दिशा में मुख्यमंत्री ने प्रदेश की जनता को बड़ा उपहार दिया है। जिला प्रशासन और जनप्रतिनिधि ऐसे प्रयास करें कि हर परिवार इस योजना में पंजीकृत हो। जन आधार कार्ड धारक लाभार्थी चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध लिंक के माध्यम से भी रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। इस योजना में कोविड सहित विभिन्न बीमारियों के इलाज के 1576 पैकेज शामिल हैं। उन्होंने बताया कि राजकीय कर्मचारियों और पेंशनर्स को इस योजना से जुड़ने की आवश्यकता नहीं है। उनके लिए अलग योजना लाई जा रही है।