बाली उपखंड अधिकारी ग्रामीणों सहित प्रशासन की अनूठी पहल गुजरात सीमा से पैदल चलकर आए श्रमिको को विशेष बस से बारा जिले के लिए किया रवाना।

बाली उपखंड अधिकारी ग्रामीणों सहित प्रशासन की अनूठी पहल गुजरात सीमा से पैदल चलकर आए श्रमिको जिसमे दो गर्भवती महिलाएं शामिल थी को विशेष बस से बारा जिले के लिए किया रवाना।


गुजरात से पैदल रवाना हुए 35 श्रमिको की श्री सेला के ग्रामीणों ने 3 दिन की सेवा। सुचना मिलते ही बाली उपखण्ड अधिकारी श्री निधि बीटी पहुचे श्री सेला गाव और ग्रामीणों की सराहना करते हुए इन श्रमिको को पैदल नही चलने का आग्रह करते हुए रोडवेज की बस से बारा जिले के सहबाद भेजने की व्यवस्था की। बस से श्रमिको को रवाना करने के दोरान उपखण्ड अधिकारी श्री निधि बीटी,तहसीलदार सर्वेश्वर निम्बार्क और ब्लॉक चिकित्सा अधिकारी डॉ हितेन्द्र वागोरिया भी मोजूद रहे। गौरतलब है की यह 35 श्रमिक गुजरात से रवाना होकर जालोर होते हुए सात दिन पैदल चल कर श्री सेला गाँव पहुचे। जिसमे 17 मासूम बच्चे दो गर्भवती मातृ शक्ति सहित 18 व्यक्ति शामिल थे। पैदल आ रहे 35 श्रमिको की मदद को श्री सेला गाँव और प्रसासन ने मदद को हाथ बढ़ाया। श्री सेला के ग्रामीणों ने गाँव में ठहरने की व्यवस्था के साथ दो वक़्त भोजन का प्रबन्ध भी किया। सुचना मिलते ही एसडीएम व प्रशासन ने तुरंत कार्रवाई कर खाने पीने की व्यवस्था कर रोडवेज बस से बारा जिले तक भेजने की व्यवस्था की इस दौरान तहसीलदार सर्वेश्वर निंबार्क, नायब तहसीलदार नरेंद्र, रोडवेज की मुख्य आगार प्रबंधक रुचि पवार, मेडिकल टीम के प्रभारी बीसीएमओ डॉ हितेंद्र बागोरिया बाली ने चिकित्सा टीम के डॉ प्रेम कुमार, डॉ ताहिर, मोहमद अज़रूदिं, प्रेम प्रकाश, मनोज कुमार,कास्टेबल बीरबल यादव और आगनवाड़ी के कर्मचारीयो की टीम द्वारा श्रमिको की स्क्रीनिंग करवाकर बस में बिस्किट सेनेटरी बोतल पानी की बोतल गांव वालों की तरफ से दी।